बुक्स हिंदी 

Sale!

दस प्रतिनिधि कहानियाँ : भगवानदास मोरवाल / Dus Pratinidhi Kahaniyan : Bhagwandas Morwal (PB)

250.00 200.00

ISBN : 978-93-83233-96-0
Edition: 2024
Pages: 166
Language: Hindi
Format: Paperback


Author : Bhagwandas Morwal

Category:
दस प्रतिनिधि कहानियाँ : भगवानदास मोरवाल
‘दस प्रतिनिधि कहानियाँ’ सीरीज़ किताबघर प्रकाशन की एक महत्त्वाकांक्षी कथा-योजना है, जिसमें हिन्दी कथा-जगत् के सभी शीर्षस्थ कथाकारों को प्रस्तुत किया जा रहा है ।
इस सीरीज़ में सम्मिलित कहानीकारों से यह अपेक्षा की गई है कि वे अपने संपूर्ण कथा-दौर से उन दस कहानियों का चयन करें, जो पाठको, समीक्षकों तथा संपादकों के लिए मील का पत्थर रही हों तथा ये ऐसी कहानियाँ भी हों, जिनकी वजह से उन्हें स्वयं को भी कहानीकार होने का अहसास बना रहा हो। भूमिका-स्वरूप कथाकार का एक वक्तव्य भी इस सीरीज़ के लिए आमंत्रित किया गया है, जिसमें प्रस्तुत कहानियों को प्रतिनिधित्व सौंपने की बात पर चर्चा करना अपेक्षित रहा है ।
किताबघर प्रकाशन गौरवान्वित है कि इस सीरीज़ के लिए सभी कथाकारों का उसे सहज सहयोग मिला है। इस सीरीज़ के महत्त्वपूर्ण कथाकार भगवानदास मोरवाल ने प्रस्तुत संकलन में अपनी जिन दस कहानियों को प्रस्तुत किया है, वे हैं : ‘महराब’, ‘बस, तुम न होते पिताजी’, ‘दु:स्वप्न की मौत’, ‘बियाबान’, ‘सौदा’, ‘चोट’, ‘रंग-अबीर’, ‘सीढियां, माँ और उसका देवता’, ‘वे तीन’ तथा ‘छल’।
हमेँ विश्वास है कि इस सीरीज़ के माध्यम से पाठक सुविख्यात लेखक भगवानदास मोरवाल की प्रतिनिधि कहानियों को एक ही जिल्द में पाकर सुखद पाठकीय संतोष का अनुभव करेंगें।