Sale!

दस प्रतिनिधि कहानियाँ: संजीव / Dus Pratinidhi Kahaniyan : Sanjeev (PB)

80.00 72.00

ISBN : 978-81-7016-624-5
Edition: 2012
Pages: 152
Language: Hindi
Format: Paperback


Author : Sanjeev

Compare
Category:

Description

दस प्रतिनिधि कहानियाँ
संजीव
कहानियों सें विषयों के व्यापक शोध, अनुभव के संदर्भ, समसामयिक प्रसंग और प्रश्न तथा पठनीय वृत्तांतों का संयुक्त एव सार्वजनिक संसार ही संजीव की कहानियाँ चुनता-बुनता है। इन कथाओं की सविस्तार प्रस्तुति से अभिव्यक्त समाहार का अवदान इस कथाकार को उल्लेख्य बनाता है। घटनाओं की क्रीड़ास्थली बनाकर कहानी को पठनीय बनाने में इस कहानीकार की विशेष रुचि नहीं होती बल्कि यह ऐसे सारपूर्ण कथानक की सुसज्जा में पाठक को ले जाता है, जहाँ समकालीन जीवन का जटिल और क्रूर यथार्थ है तथा पारंपरिक कथाभूमि की निरूपणता और अतिक्रमणता भी । यथार्थ के अमंगल ग्रह को, पढ़वा लेने की साहिबी इस कथाकार को सहज ही प्राप्त है, जिसे इस संग्रह की कहानियों में साक्षात् अनुभव किया जा सकता है ।
प्रस्तुत कहानियों के कथानक सुप्त और सक्रिय ऐसे ‘ज्वालामुखी’ है, जो हमारे समय में सर्वत्र फैले हैं और समाचार तथा विचार के मध्य पिसते निम्नवर्गीय व्यक्ति के संघर्ष और जिजीविषा के लिए प्रेतबाघा बने हैँ। अनगिनत सुखों और सुविधाओं के बीच मनुष्य जाति का यह अधिकांश हिस्सा क्यों वंचित, शोषित छूट गया है- इस तथ्य की पड़ताल ये कहानियाँ पूर्णत: लेखकीय प्रतिबद्धता के साथ करती है ।
सजीव द्वारा स्वयं चुनी गई ‘दस प्रतिनिधि कहानियाँ’ हैं- ‘अपराध’, ‘टीस’, ‘प्रेत-मुक्ति’ ‘पुन्नी माटी’, ‘ऑपरेशन जोनाकी’, ‘प्रेरणास्रोत’, ‘सागर सीमांत’, ‘आरोहण’, ‘नस्ल’ तथा ‘मानपत्र’ ।
किताबघर प्रकाशन द्वारा प्रकाशित की जा रहीं ‘दस प्रतिनिधि कहानियाँ’ सीरीज़ में सम्मितित इस प्रतिनिधि कया-संग्रह को दसवें ‘आर्य स्मृति साहित्य सम्मान’ (16 दिसंबर, 2003) के अवसर पर विशेष सम्मान के साथ प्रस्तुत करते हुए हम आशान्वित हैं कि इन कहानियों को लंबे समय तक पाठकों के मन से कभी भी तलाशा जा सकेगा।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “दस प्रतिनिधि कहानियाँ: संजीव / Dus Pratinidhi Kahaniyan : Sanjeev (PB)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *