Sale!

Mahaan Guru Gobind Singh

350.00 297.50

ISBN: 978-93-82114-62-8
Edition: 2019
Pages: 168
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Dr. Satyendra Pal Singh

Compare
Category:

Description

हिंदू धर्म की रक्षा के लिए पिता गुरु तेग बहादुर जी के दिल्ली में बलिदान के बाद मात्र नौ वर्ष की आयु में गुरुगद्दी पर आसीन होने वाले गुरु गोबिंद सिंह जी का एक ही संकल्प था ‘सुभ करमन ते कबहू न टरों’। इसे सिद्ध करने के लिए उन्होंने अनंत शक्ति ‘सवा लाख सों एक लड़ाऊ’ का आह्वान किया और विकारों से मुक्त सशक्त अंतर और अन्याय से रहित धर्मानुकूल समाज बनाने के लिए खालसा की साजना की। विचार और आचार की शुद्धता को स्थापित करने में अपना पूरा जीवन लगा देने वाले गुरु गोविंद सिंह जी की गुरु शबद की देग और गुरु कृपा की तेग दोनों साथ-साथ चलीं और एक अभूतपूर्व इतिहास बना। यह कैसे संभव हुआ इसे समझने और अहसास करने में यह पुस्तक सहायक है। गुरु गोबिंद सिंह जी के बारे में समग्र दृष्टि प्रदान करने वाली, राष्ट्र भाषा हिंदी में लिखी गई यह पहली पुस्तक है जो भावनाओं से जोड़ने वाली है।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Mahaan Guru Gobind Singh”

Your email address will not be published. Required fields are marked *