Sale!

हांफता हुआ शोर / Hanfta Hua Shoor

200.00 170.00

ISBN : 978-81-935471-5-1
Edition: 2017
Pages:104
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Nesar Naaz

Compare
Category:

Description

हांफता हुआ शोर नेसार नाज़ की बेहद पठनीय कहानियों का संग्रह है। आज के दौर में जब कहानी से कहानीपन गायब होता जा रहा है तब नेसार नाज़ की कहानियां पढ़ना अलग प्रकार का अनुभव देता है। नेसार की कहानी कला इतनी पुरकशिश है कि पाठक या श्रोता कहानी के पहले वाक्य से कथाकार के साथ जुड़ जाता है। नेसार नाज़ समाज की मूल इकाई लोग यानी मनुष्य और उसकी फितरत के साथ तारतम्य बिठाकर अद्भुत किस्सागो की तरह कहानी सुनाने लगते हैं। उनकी चिंताएं हमें मुंशी प्रेमचंद के समय से जोड़ती हैं। तब भी इनसानी बिरादरी के बीच असमानता, विद्वेष, घृणा और अपमान से बचाने की मुहिम थी और आज भी ये हमारी सबसे पहली प्राथमिकता है। नाज़ की लड़ाई इनसानियत को बचाए रखने की लड़ाई है और उनके सामाजिक सरोकार सिर्फ इनसान की बेहतरी के लिए हैं।

 

नेसार नाज़ की कहानियों का परिवेश हमारा-आपका कस्बाई संसार है जहां लोग एक-दूसरे से ऐसे परिचित रहते हैं, एक बहुत बड़े परिवार के सदस्य लगते हैं। उनकी कहानियां सन् 1992 से पूर्व की कहानियां हैं जब इन कस्बों की संरचना उतनी जटिल नहीं थी जितनी कि आज है। इन कहानियों में गजब की रवानी है। आंचलिक भाषा में पात्र और परिवेश जैसे चहक-चहक कर बोलता है। यह एक सिद्धहस्त किस्सागो के लक्षण हैं। इन कहानियां की विशेषता है कि इनमें परिवेश और पात्र अपनी जुबान बोलते हैं। विद्वत्ता के आतंक से परहेज करतीं ये कहानियां सहज-सरल और प्रभावी हैं। हर कहानी नए मुहावरे गढ़ती है और कहीं से आयातित विचारों की खेप नहीं लगती। एक संग्रहणीय कहानी संग्रह।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “हांफता हुआ शोर / Hanfta Hua Shoor”

Your email address will not be published. Required fields are marked *