Sale!

Dus Pratinidhi Kahaniyan : Gyanranjan

160.00 136.00

ISBN : 978-81-7016-373-2
Edition: 2012
Pages: 112
Language: Hindi
Format: Hardback

Author : Gyanranjan

Compare
Category:

Description

दस प्रतिनिधि कहानियाँ : ज्ञानरंजन
‘दस प्रतिनिधि कहानियाँ’ सीरीज़ किताबघर प्रकाशन की एक महत्त्वाकांक्षी कथा-योजना है, जिसमें हिन्दी कथा-जगत् के सभी शीर्षस्थ कथाकारों को प्रस्तुत किया जा रहा है ।
इस सीरीज़ में सम्मिलित कहानीकारों से यह अपेक्षा की गई है कि वे अपने संपूर्ण कथा-दौर से उन दस कहानियों का चयन करें, जो पाठको, समीक्षकों तथा संपादकों के लिए मील का पत्थर रही हों तथा ये ऐसी कहानियाँ भी हों, जिनकी वजह से उन्हें स्वयं को भी कहानीकार होने का अहसास बना रहा हो। भूमिका-स्वरूप कथाकार का एक वक्तव्य भी इस सीरीज़ के लिए आमंत्रित किया गया है, जिसमें प्रस्तुत कहानियों को प्रतिनिधित्व सौंपने की बात पर चर्चा करना अपेक्षित रहा है ।
किताबघर प्रकाशन गौरवान्वित है कि इस सीरीज़ के लिए सभी कथाकारों का उसे सहज सहयोग मिला है। इस सीरीज़ के महत्त्वपूर्ण कथाकार ज्ञानरंजन ने प्रस्तुत संकलन में अपनी जिन दस कहानियों को प्रस्तुत किया है, वे हैं : ‘शेष होते हुए’, ‘पिता’, ‘फैंस के इधर और उधर’, ‘छलाँग’, ‘यात्रा’, ‘संबंध’, ‘घंटा’, ‘बहिर्गमन’, ‘अमरूद का पेड़’ तथा ‘अनुभव’ ।
हमें विश्वास है कि इस सीरीज़ के माध्यम से पाठक सुविख्यात लेखक ज्ञानरंजन की प्रतिनिधि कहानियों को एक ही जिल्द में पाकर सुखद पाठकीय संतोष का अनुभव करेंगें ।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Dus Pratinidhi Kahaniyan : Gyanranjan”

Your email address will not be published. Required fields are marked *