Sale!

Dus Pratinidhi Kahaniyan : Malti Joshi

200.00 170.00

ISBN : 978-81-7016-615-3
Edition: 2013
Pages: 116
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Malti Joshi

Compare
Category:

Description

दस प्रतिनिधि कहानियाँ : मालती जोशी
हिंदी की प्रख्यात लेखिका मालती जोशी के प्रतिनिधि कथा-संसार में नारी-विमर्श और उसकी अस्मिता के नाम पर लिखी जा रही तथाकथित आधुनिक नायिकाओं के चटपटे नारी-पात्र नहीं हैं, वरंच वहाँ निरूपण है ऐसी नारियों का, जो सचमुच हमारे परिवार, समाज और देश की स्त्री की रूपरेखाओं का चित्रण और निर्धारण करती है । दैनंदिन स्तर पर आज मध्यवर्गीय नारी सुबह-दोपहर-शाम जिन भभूकों में फंसी है, वहाँ अनिवार्यतः मानसिक उद्वेलन तथा वैचारिक उत्तेजन के दृश्य-परिदृश्य निर्मित होते हैं और इन्हीं की संतुलित सृजन-विसर्जन की प्रक्रिया मालती जोशी की कहानियों का प्रमुख बढ़ा-तत्त्व है ।
इक्लीसवीं सदी के इस सदिच्छा काल में जब पारिवारिक भारतीय नारी अपनी इच्छा, क्रिया और ज्ञान-शक्ति के माध्यम से अपने स्वभाव की प्रवृत्ति को अक्षुण्ण रखते हुए, एक विकासशील परिपक्वता की ओर अग्रसर है, ऐसे में आवश्यक है कि जीवन की मनोहरता को बचाने से परिवार की यह प्रमुखतम इकाई सुदृढ़ रहे । पर रहे तो कैसे? इसी आधार को बुनती ये कहानियां पाठक-समाज की आश्वस्ति हैं  और संदेश भी ।
मालती जोशी द्वारा स्वयं चुनी गई ‘दस प्रतिनिधि कहानियां’ हैँ-‘बेटे की मां’, ‘सांस-सांस पर पहरा बैठा’, ‘प्रतिदान’, ‘कोख का दर्प’, ‘मोह-भंग’, ‘आउट साइडर’, ‘प्रॉब्लम चाइल्ड’, ‘उसने नहीं कहा’, ‘आस्था के आयाम’ तथा ‘प्यार के दो पल बहुत है’।
किताबघर प्रकाशन द्वारा प्रकाशित की जा रही ‘दस प्रतिनिधि कहानियाँ’ सीरीज़ में सम्मिलित इस प्रतिनिधि कथा-संग्रह को दसवें ‘आर्य स्मृति साहित्य प्तम्मान (16 दिसंबर, 2003) के अवसर पर विशेष सम्मान के साथ प्रस्तुत करते हुए हम आशान्वित हैं कि इन कहानियों को लंबे समय तक पाठकों के मन में कभी भी तलाशा जा सकेगा ।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Dus Pratinidhi Kahaniyan : Malti Joshi”

Your email address will not be published. Required fields are marked *