-15%

AARSA SAHITYA MEIN MOOLBHOOT VIGYAN

220.00 187.00

ISBN: 81-88118-55-9
Edition: 2012
Pages: 150
Language: Hindi
Format: Hardback

Author : Dr. Vishnu Dutt Sharma

Compare
Category:

Description

आर्ष साहित्य में मूलभूत विज्ञान

प्राचीन भारत में वैज्ञानिकों की कोई कमी नहीं थी। इनका विवरण अनेक आर्ष साहित्य में उपलब्ध है। वास्तव में भारतीय वैज्ञानिकों के धार्मिक एवं दार्शनिक पक्षों को देखकर ही उन्हें ऋषियों की श्रेणी में रखा तथा उनके वैज्ञानिक योगदान के महत्त्व को कम कर दिया गया और उसका समुचित रूप से मूल्यांकन भी नहीं किया गया | वैदिक काल से गुप्तकाल (400 ई. पूर्व) तक विज्ञान के सिद्धांत एवं वैज्ञानिक पद्धति के विषय में महत्त्वपूर्ण कार्य हुए किन्तु दुर्भाग्य से प्राचीन भारतीय विज्ञान के विकास का समुचित विश्लेषणात्मक अध्ययन नहीं हो पाया है।

प्रस्तुत शोध-ग्रंथ “आर्ष साहित्य में मूलभूत विज्ञान” में लेखक डॉ. विष्णुदत्त शर्मा द्वारा प्राचीन भारतीय विद्वानों के सिद्धांतों तथा आधुनिक वैज्ञानिकों द्वारा उन्हीं सिद्धांतों की परिपुष्टि को प्रकाश में लाया गया है। आशा है, प्रबुद्ध पाठक प्रस्तुत ग्रंथ में वर्णित भारतीय परिव्राजकों द्वारा किए गए अनुसंधानों तथा कालांतर में ये ही शोध-कार्य पश्चिमी देशों की मोहर लगकर भारत में आयातित विज्ञान के तथ्य को जानने का प्रयास करेंगे। आशा ही नहीं अपितु विश्वास है कि यह पुस्तक शोधकर्त्ताओं और विज्ञान एवं अध्यात्म में रुचि रखने वाले पाठकों के लिए समान रूप से रोचक होगी।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “AARSA SAHITYA MEIN MOOLBHOOT VIGYAN”

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Vendor Information

  • No ratings found yet!
Back to Top
X

बुक्स हिंदी