Sale!

शिक्षा की सार्थकता / Shiksha ki Sarthakta

500.00 425.00

ISBN: 978-81-940921-3-1
Edition: 2019
Pages: 272
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Jagmohan Singh Rajput

Out of stock

Compare
Category:

Description

प्रस्तुत पुस्तक शिक्षा की सार्थकता में उन सभी पक्षों को सम्मिलित किया गया है जो देश में वर्ष 2015-17 के बीच चर्चित होते रहे। लगभग हर स्तर पर मूल्यों के क्षरण तथा गुणवत्ता के ह्रास और संस्थाओं की गिरती साख पर चिंता प्रकट की गई है।पुस्तक के विभिन्न लेखों में जिस भी पक्ष या संदर्भ को उठाया गया है, उसमें अध्यापकों, छात्रें तथा प्रशासकों का योगदान अवश्य दिखाई देगा क्योंकि इन्हें अनेक प्रकार की चर्चाओं तथा लेखक के व्यक्तिगत अनुभवों के आधार पर ही लिखा गया है। लेखक के अनेकानेक विद्यार्थी देश के विभिन्न भागों में स्कूलों से लेकर विश्वविद्यालयों तक शिक्षा दे रहे हैं। उनके साथ अनेक बार नई जानकारियाँ मिलती रहती हैं। उन सबके अनुभवों का भी इस पुस्तक के बनाने में विशेष योगदान है।अच्छी गुणवत्ता, कौशल तथा मानव-मूल्य देने वाली शिक्षा से अधिक प्रभावशाली अन्य कोई मार्ग मनुष्य को उपलब्ध नहीं है जो शांति, सद्भाव, समेकित विकास और प्रगति के रास्ते सभी के लिए खोल सके। अपेक्षा है कि सामान्य भाषा में परिचित संदर्भों को उठाने वाली यह पुस्तक शिक्षा जगत् में और गहन मनन और चिंतन को बढ़ाएगी और इस प्रकार शिक्षा की उपयोगिता बढ़ाने में अपना योगदान भी करेगी।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “शिक्षा की सार्थकता / Shiksha ki Sarthakta”

Your email address will not be published. Required fields are marked *