Sale!

वो तेरा घर, ये मेरा घर / Vo Tera Ghar, Ye Mera Ghar

200.00 170.00

ISBN : 978-81-88121-69-4
Edition: 2018
Pages: 92
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Malti Joshi

Compare
Categories: ,

Description

वो तेरा घर, ये मेरा घर
इस बंगले के गृह-प्रवेश पर मां-पिताजी दोनो आए थे । बंगले की भव्यता देखकर खुश भी बहुत हुए थे, पर माँ ने उसांस भरकर कहा था, ‘सोचा था, कभी-कभार छुट्टियों में तुम लोग आकर रहोगे, पर अब यह महल छोड़कर तुम उस कुटिया में तो आने से रहे।’
उन्होने कहा था, ‘हम यहाँ भी कहाँ रह पाते है मां । नौकरी के चक्कर में रोज तो यहाँ से वहाँ भागते रहते हैं। यहाँ तो शायद पेंशन के बाद ही रह पाएंगे । मैं तो कहता हूँ आप लोग वह घर बेच दो । पैसे फिक्स डिपॉजिट में रख दो या लड़कियों को दे दो और ठाठ से यहाँ आकर रहो ।’
‘न बेटे! मेरे जीते-जी तो वह मकान नहीं बिकेगा,’ पिताजी ने दृढ़ता के साथ कहा था, ‘हमने बड़े अरमानों से यह घर बनाया था । इसे लेकर बहुत सपने संजोए थे । अब वे सारे सपने हवा हो गए, यह बात और है।’
‘ऐसा क्यों कह रहे है पिताजी । इस घर ने आपको क्या नहीं दिया ! हम सब इसी घर से पलकर बड़े हुए हैं। हम चारों की शादियां इसी घर से हुई हैं। बच्चों की शिक्षा- दीक्षा और शादियां—मां-बाप के यही तो सपने होते हैं ।’
‘हाँ, यह भी तुम ठीक ही कह रहे हो । मैं ही पागलों की तरह सोच बैठा था कि यह घर हमेशा इसी तरह गुलजार रहेगा। भूल ही गया था कि लडकियों को एक दिन ससुराल जाना है । लड़कों को रोजगार के लिए बाहर निकलना है । और एक बार उड़ना सीख जाते है तो पखेरू घोंसले में कहाँ लौटते हैं। अब मुझें अम्मा-बाबूजी की पीड़ा समझ में आ रही है ।’
“कैसी पीडा?’
‘पाँच-पाँच बेटों के होते हुए अंत में अकेले ही रह गए थे दोनों । अम्मा तो हमेशा कहती थी, अगर मैं जानती कि पढ-लिखकर तुम लोग बेगाने हो जाओगे तो किसी को स्कूल नहीं भेजती । अपने आँचल से छुपाकर रखती ।’
और अपने अम्मा-बाबूजी की याद में पिताजी की आँखें छलछला आई थी ।
[इसी संग्रह की कहानी ‘साँझ की बेला, पंछी अकेला’ से]

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “वो तेरा घर, ये मेरा घर / Vo Tera Ghar, Ye Mera Ghar”

Your email address will not be published. Required fields are marked *