Sale!

रहिमन धागा प्रेम का / Rahiman Dhaga Prem Ka

150.00 127.50

ISBN : 978-81-88121-27-4
Edition: 2019
Pages: 92
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Malti Joshi

Compare
Category:

Description

रहिमन धागा प्रेम का
“पापा, अगर आप सोच रहे है कि जल्दी ही मुझसे पीछा छुडा लेंगे तो आप गलत सोच रहे है । मैं अभी दस-बीस साल शादी करने के मूड में नहीं हूँ। मैं आपके साथ आपके घर में रहूंगी । इसलिए यह घर हमारे लिए बहुत छोटा है । प्लीज़, कोई दूसरा बड़ा-सा देखिए।”
“तुम शादी भी करोगी और मेरे घर में भी रहोगी, उसके लिए मैं आजकल एक बड़ा-सा घर और एक अच्छा सा घर-जमाई खोज रहा हूँ। रही इस घर की, तो यह तुम्हारी माँ के लिए है । यह जब चाहे यहीं शिफ्ट हो सकती है । शर्त एक ही है-कविराज इस घर में नहीं आएंगे और तुम्हारी माँ के बाद इस घर पर तुम्हारा अधिकार होगा ।”
अंजू का मन कृतज्ञता स भर उठा । उसने पुलकित स्वर में पूछा, “तो पापा, आपने माँ को माफ कर दिया ?”
“इसमें माफ करने का सवाल कहाँ आता है ? अग्नि को साक्षी मानकर चार भले आदमियों के सामने मैंने उसका हाथ थामा था, उसके सुख-दुःख का जिम्मा लिया था । जब उसने अपना सुख बाहर तलाशना चाहा, मैंने उसे मनचाही आज़ादी दे दी । अब तुम कह रही हो कि वह दुखी है तो उसके लौटने का मार्ग भी प्रशस्त कर दिया । उसके भरण-पोषण का भार मुझ पर था । गुजारा-भत्ता तो दे ही रहा हूँ अब सिर पर यह छत भी दे दी।”
[इसी संग्रह की कहानी “रहिमन धागा प्रेम का’ से]

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “रहिमन धागा प्रेम का / Rahiman Dhaga Prem Ka”

Your email address will not be published. Required fields are marked *