Sale!

मेरा पैगाम मुहब्बत है जहाँ तक पहुँचे / Mera Paigaam Muhabbat Hai Jahan Tak Pahunche

250.00 212.50

ISBN: 978-81-7016-805-8
Edition: 2013
Pages: 216
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Jigar Mordabadi

Out of stock

Compare
Category:

Description

मेरा पैगाम मुहब्बत है जहाँ तक पहुँचे
‘जिगर’ साहब इंसानियत और शेरियत दोनों का पैकर थे । उनकी शायराना अजमत का बडा राज उनकी मखसूस सज-धज, तर्जेअदा और तरन्नुम था । उनकी मासूम जोर दिलकश शखसियत ने उन्हें अपने दौर का महबूब-तरीन शायर बना दिया था । उनकी बड़ाई को इस पैमाने से भी नापा जा सकता है कि दौरे जदीद में कितनों ने जिगर बनने की कोशिश की, इसलिए कि शेर की दुनिया के वह एक तर्ज थे। असलूब थे, एक स्टाइल थे ।
‘जिगर’ ने गजल को एक नई जिंदगी बख्शी । उनकी गजले मदहोशी व रंगीनी के छलकते हुए सागर  हैं, जिससे तरह-तरह के रंग मौजूद है और किस्म-किस्म के जजबात जलवागर हैं,
जिनका मुताअला जिंदगी के नशे को गहरा कर देता है, कायनात के हुस्न में इज़ाफ़ा हो जाता है और हयात नये रूप में जलवागर होकर दिल की धड़कन में जज्ब हो जाती है । खून को रवानी तेज हो जाती है और शायरी के तारों से आहंग हो जाती है। ये इंतेखाबे गजल के अशआर ऐसे है जिनमें नई जिंदगी और वक्त की धड़कनों की आवाजें सुनाई देती हैं। आने वाली नस्लें और तारीख ‘जिगर’ को कभी भुला नहीं सकेंगी ।
978-81-7016-805-8

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “मेरा पैगाम मुहब्बत है जहाँ तक पहुँचे / Mera Paigaam Muhabbat Hai Jahan Tak Pahunche”

Your email address will not be published. Required fields are marked *