Sale!

Jal sansadhan : Gaharata Sankat

200.00 170.00

ISBN: 978-81-934328-5-3
Edition:  2018
Pages: 102
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Krishna Kumar Mishra

Compare
Category:

Description

अगर कवि रहीम लिख गए हैं ‘बिन पानी सब सून’ तो बड़ी दूरदर्शिता के साथ पते की बात लिख गए हैं, और आगाह भी कर गए हैं कि ‘रहिमन पानी राखिए’। उनकी यह बात दिनोदिन हमें चेता रही है कि अगर पानी न बचाया, उसका संरक्षण न किया तो धरती पर पूरा जीवन संकट में पड़ जाएगा। समझदार लोग अब समझ रहे हैं कि कल अगर फिर कोई विश्वयुद्ध हुआ तो वह शर्तिया पानी के लिए होगा। और, यह हम सब देख ही रहे हैं कि दुनिया भर में पानी के लिए किस कदर त्राहि-त्राहि मचने लगी है। यह सपने में भी किसी ने कब सोचा था कि कल बोतलों और वाटर-कैनों में पानी बिकेगा। हम तो सदियों से इसे माँ प्रकृति की सौगात समझते आ रहे थे। लेकिन, सौगात भी बाजार का हिस्सा बन गई है।
अनुभवी लेखक और वरिष्ठ वैज्ञानिक डाॅ. कृष्ण कुमार मिश्र ने अपनी इस पुस्तक ‘जल संसाधन : गहराता संकट’ में जल के इन तमाम पहलुओं का अपनी पैनी नजर से ‌विश्लेषण करके हमें गहराते जल संकट के बारे में आगाह तो किया ही है, धरती पर जीवन को बचाए रखने के लिए इसके संरक्षण के लिए चेताया भी है। इस बढ़ते संकट के प्रति लोगों को जागरूक करने का उनका यह रचनात्मक प्रयास निस्संदेह सराहनीय है। मेरा सुझाव है कि हम इस कृति को पढ़कर पानी को बचाने और उसकी फिजूलखर्ची रोकने का संकल्प लें। लेखक के इस सद्प्रयास में यह हमारा बड़ा योगदान हो सकता है।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Jal sansadhan : Gaharata Sankat”

Your email address will not be published. Required fields are marked *