Sale!

Himachal Pradesh Ka Lok-Jeevan

290.00 246.50

ISBN: 978-81-88121-86-1
Edition: 2017
Pages: 168
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Kuldeep Singh

Compare
Category:

Description

हिमाचल प्रदेश का लोक-जीवन

आधुनिकता की अंधी दौड़ में हमारी लोक-संस्कृति पिछड़ी तो नहीं है, परंतु आधुनिकता के लबादे ने इसको ढक अवश्य दिया है। एक तरफ पाश्चात्य संस्कृति की चकाचौंध से आम व्यक्ति प्रभावित हुआ है तो दूसरी तरफ आधुनिकता और परंपरा में सामंजस्य न बिठा पाने के कारण भी हमारी लोक-संस्कृति पतनोन्मुख हुई है। टीúवीú के विदेशी चैनलों ने आम व्यक्ति के पहनावे, खान-पान, रहन-सहन तथा दिनचर्या को प्रभावित ही नहीं किया, बल्कि परिवर्तित करके रख दिया है। फलतः मूल लोक-संस्कृति की जड़ें हिल गई हैं। आम व्यक्ति दोराहे पर आ गया है। न तो वह स्वयं को आधुनिकता के अनुरूप ढाल पा रहा है और न ही पूर्ण रूप से अपनी लोक-संस्कृति को व्यवहार में ला रहा है।
गत दो-तीन दशकों में हिमाचल प्रदेश की ही नहीं, अपितु संपूर्ण भारत की लोक-संस्कृति में व्यापक उथल-पुथल देखने को मिली है। संस्कृति के ढाँचे में परिवर्तन भी हुए हैं। अनेक रीति-रिवाजों, परंपराओं, प्रथाओं का तथाकथित आधुनिकीकरण हुआ है, परंतु यह सब होने के बावजूद आधुनिकता और लोक-संस्कृति का आपसी सामंजस्य नहीं बैठ पाया है।
इस पुस्तक के माध्यम से भारत का जनमानस हिमाचल प्रदेश के जनजीवन की केवल झलक ही नहीं पा सकेगा, बल्कि उसे वास्तविक रूप में निहार भी सकेगा, उसका अनुभव भी कर सकेगा। साहित्यकार किस प्रकार किसी भी संस्कृति और जनजीवन को अंकित करता है, यह कृति उसका प्रमाण है|

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Himachal Pradesh Ka Lok-Jeevan”

Your email address will not be published. Required fields are marked *