Sale!

Dinkar : Vyaktitva Aur Rachana Ke Aayam

425.00 361.25

ISBN: 978-81-904232-5-0
Edition: 2011
Pages: 360
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Gopal Roy, Satyakam

Compare
Category:

Description

दिनकर: व्यक्तित्व और रचना के आयाम
प्रस्तुत पुस्तक दिनकर को नए परिप्रेक्ष्य में मूल्यांकित करती है। दिनकर का काव्य-संसार लगभग पाँच दशकों, 1924 से 1974 तक फैला हुआ है। बीसवीं शती के आरंभिक दशक में राष्ट्रीय आंदोलन जुझारू रुख अख्तियार करने लगा था और गांधी जी के हाथों में नेतृत्व आने के बाद तो राष्ट्रीय आंदोलन जनांदोलन के रूप में परिणत होने लगा। दिनकर की काव्य-चेतना और काव्य-चिंतन के निर्माण में राष्ट्रवादी आंदोलन के जुझारूपन का महत्त्वपूर्ण योगदान रहा। उनकी कविताओं में भारतीय किसानों का श्रम, उनकी आशाएँ और अभिलाषाएँ लिपटी हुई हैं।
दिनकर साहित्य में समकालीनता और सामयिकता को वरेण्य मानते हैं। वही साहित्य दिनकर के लिए काम्य है, जो दलितों, उपेक्षितों और समाज के मान्य वर्ग की दृष्टि से असभ्य लोगों का पक्षधर बनकर खड़ा हो सके। दिनकर राजनीतिक विषयों को भी महत्त्व देते हैं और मानते हैं कि राजनीतिक कविता श्रेष्ठ कविता होती है।
दिनकर ने अकबर इलाहाबादी का एक शे’र उद्धृत किया है जो उनके काव्य-चिंतन का निचोड़ है:
‘‘मानी को छोड़कर जो हों नाजुक-बयानियाँ,
वह शे’र नहीं, रंग है लफ़्ज़ों के ख़ून का।’’

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Dinkar : Vyaktitva Aur Rachana Ke Aayam”

Your email address will not be published. Required fields are marked *