Sale!

Akasmaat Kuchh Kavitayen

160.00 136.00

ISBN: 978-81-88466-30-6
Edition: 2017
Pages: 80
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Surendra Pant

Compare
Category:

Description

पुलिस विभाग के अत्यंत महत्वपूर्ण एवं ‘संवेदनशील’ पद का निर्वहन करते हुए यह कवि समाज और राजनीति की ‘रणनीति’ में लाखों-लाख हंसते-रोते हैवानों-इंसानों के परम-चरम अनुभवों का साक्षी रहा है, इसीलिए ये कविताएँ हमारे समय और समाज की धाराओं-उपधाराओं के रूप में कवि के सामने ‘पेशी’ पाकर शब्दांकित होती हैं। संभवतः इस अनुभवबहुलता ने कवि को किसी इकहरे विषय का मर्मज्ञ न रहने देकर, सर्वत्र का प्रवक्ता कवि भी बना दिया हैं यह भी उल्लेखनीय है कि इस विविधता के बावजूद कवि का ध्यान अपने देश, संस्कृति और जन पर लगभग प्रतयेक कविता में केंद्रीकृत हुआ है।
कहना न होगा कि इन कविताओं के नए तेवर का आगमन भले ही अकस्मात् रूप में हुआ है, मगर निश्चित ही इनका सृजन गहरी विचारशीलता के बाद ही संभव हुआ होगा।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Akasmaat Kuchh Kavitayen”

Your email address will not be published. Required fields are marked *