Sale!

Samay ki Roshni Mein

350.00 297.50

ISBN: 978-93-83233-66-3
Edition: 2016
Pages: 152
Language: Hindi
Format: Hardback

Author : Raj Narain Bisaria

Compare
Category:

Description

मुझको न कुछ टोटा रहा
खुश हूं न कुछ खोटा रहा,
मुझको बड़ा सन्तोष है
मैं उम्र भर छोटा रहा।
*
चले साथ का
खास अहसास लेकर
मुड़ें आप, मैं भी नये मोड़ को लूं!
*
नदी से बिछुड़ कर
लहर सोचती है
न क्यों रेत से आज मुंह-हाथ धोलूं!
*
केवल
गहरे संवेदन ही
धड़कन देते हैं,
वरना मुखड़ा कांच खिलौना
अक्सर होता है।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Samay ki Roshni Mein”

Your email address will not be published. Required fields are marked *