Sale!

101 Amar Kathayen

300.00 255.00

ISBN: 978-93-80048-18-5
Edition: 2019
Pages: 144
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Prem Kishore Sharma

Compare
Category:

Description

शब्द भी महकते हैं
हाँ, शब्द भी महकते हैं और महकते शब्दों की आयु भी अनंत काल तक रहती है । शब्द और फूलों में बस एक ही अंतर नज़र आता है — शब्द महकते हैं तो महकते रहते हैं और फूल कुछ समय के बाद कुम्हला जाते हैं और अपनी महक खो देते हैं ।
कुछ ऐसे ही महापुरुषों, संतों के विचार-संस्मरण महकती फुलवारी के समान यहाँ संजोकर आपके लिए लाये हैं । शायद किसी शब्द की महक आपका जीवन महका दे । सुगंध बनकर आपके मन और प्राण की वंशी के स्वर फूट पड़ें ।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “101 Amar Kathayen”

Your email address will not be published. Required fields are marked *