Sale!

सागर और उसकी अपार संपदा एवं ऊर्जा / Saagar Aur uski Apaar Sampada Evam Oorja

300.00 255.00

ISBN: 978-81-88121-52-6
Edition: 2020
Pages: 160
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Vinod Kumar Mishra

Compare
Category:

Description

सागर और उसकी अपार संपदा एवं ऊर्जा
सुनामी लहरों ने सागर का प्रलयंकारी रूप उजागर किया । इस प्रक्रिया में द्वीप अपनी जगहों से हिल गए । कई जगह नीचे दबी सामग्री ऊपर आ गई और अनेक जगहों पर बहुमूल्य सामग्री के भंडार लोगों के हाथ लग गए।
इस आपदा ने अनायास ही लोगों के मन से सागर के प्रति जिज्ञासा बढा दी । सागर की उत्पत्ति, उसका विकास, उसके विभिन्न पहलुओं के बारे में जानने की आवश्यकता बढ़ गई और बढ़ती आबादी के मद्देनज़र भविष्य में सागर स्थित जैविक व अजैविक संपदा के दोहन और सागा में छिपी प्रचंड ऊर्जा के उपयोग की संभावनाओं की तलाश अनिवार्य हो गई है ।
हालाँकि कवियों ने सदियों से ग्रंथों से सागर का वर्णन किया है, पर इस पुस्तक में सागर के विभिन्न रूपों का रोचक व उपयोगी वृत्तांत है ।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “सागर और उसकी अपार संपदा एवं ऊर्जा / Saagar Aur uski Apaar Sampada Evam Oorja”

Your email address will not be published. Required fields are marked *