Sale!

डूबते वक्त / Doobte Waqt (PB)

200.00 180.00

ISBN: 978-93-80146-24-9
Edition: 2018
Pages: 112
Language: Hindi
Format: Paperback


Author : Dixit Dankauri

Compare
Category:

Description

प्राक्कथन
पिछले तीन-चार दशकों से देश में ‘हिन्दी गजल’–’उर्दू ग़ज़ल’  की एक बहस सी चल रही है। श्री दीक्षित दनकौरी ने इस बहस को निरर्थक सिद्ध कर दिया है। गजल अपने मिजाज और विशिष्ट कहन के कारण ग़ज़ल होती है, न कि उसमें प्रयुक्त शब्दों प्रतीकों के आधार पर । और वैसे भी आज देश में हिन्दी-उर्दू परम्परा की साझा ज़बान ही प्रचलित है । अत: आम जबान में आम आदमी की संवेदनाओं को अभिव्यक्ति करने वाले अशआर ही पाठकों/श्रोताओं पर अपना असर छोडते है ।
एक कष्टदायक तथ्य यह भी है कि भारत की आजादी के बाद से ही कुछ स्वार्थी तत्वों द्वारा हिन्दी और उर्दू को मजहब के नाम पर बांटने की फुत्सित चाल चली जा रही है और दुर्भाग्य से इसमें उन्हें आंशिक सफलता भी मिल रही है । आज संसार की कोई भाषा सिर्फ अपने शब्द भंडार तक ही सीमित नहीं है । ग्लोबलाइजेशन के इस युग में जहाँ पूरी दुनिया एक गांव भर होकर रह गई है, एक-दूसरे के शब्दों को अपनी भाषा में आत्मसात किए बगैर भला कैसे काम चलेगा ।
-मोईन अख्तर अंसारी

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “डूबते वक्त / Doobte Waqt (PB)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *