Sale!

जहां चरन पड़े रघुवर के (रामजानकी मार्ग: एक स्मृति-यात्रा) / Jahaan Charan Pare Raghuvar Ke (Ramjanki Marg : Ek Smriti Yaatra) (PB)

195.00 175.50

ISBN: 978-93-83233-08-3
Edition: 2015
Pages: 256
Language: Hindi
Format: Paperback

Author : Rajesh Tripathi

Out of stock

Compare
Category:

Description

इतिहास में ओरल हिस्ट्री (मौखिक इतिहास) को मान्यता मिली हुई है। ओरल हिस्ट्री यानी इतिहास के वे ब्योरे जो किताबों में भले न हों पर जुबान पर हों, स्मृतियों में हों। राजेश ने इस अंचल की ओरल हिस्ट्री को रिकॉर्डेड हिस्ट्री में बदलने का भी काम किया है जिसके लिए इतिहासकारों को भी उनका आभारी होना चाहिए। यह किताब इतिहास और उपन्यास के दो छोरों के बीच झूलते उस हिंडोले की तरह है जिसकी हर पेंग एक नई दुनिया की सैर कराती है। मुझे विश्वास है कि यह किताब सिर्फ अपने कंटेंट के लिए नहीं बल्कि अपने अंदाजे- बयां के लिए भी पाठकों का इस्तकबाल हासिल करेगी।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “जहां चरन पड़े रघुवर के (रामजानकी मार्ग: एक स्मृति-यात्रा) / Jahaan Charan Pare Raghuvar Ke (Ramjanki Marg : Ek Smriti Yaatra) (PB)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *