Sale!

कवि ने कहा : इब्बार रब्बी / Kavi Ne Kaha : Ibbar Rabbi (PB)

90.00 81.00

ISBN : 978-93-81467-18-3
Edition: 2012
Pages: 128
Language: Hindi
Format: Paperback


Author : Ibbar Rabbi

Compare
Category:

Description

कवि ने कहा : इब्बार रब्बी
बचपन में महाभारत और प्रेमचंद होने का भ्रम, किशोर अवस्था में छंदों की कुंज गली में भटकने का भ्रम, फिर व्यक्तिवाद की दलदल में डुबकियां । लगातार भ्रमों और कल्पना-लोक में जीने का स्वभाव । क्या आज भी किसी स्वप्न-लोक के नए मायालोक में ही खड़ा हूं? यह मेरा नया भ्रम है या विचार और रचनात्मकता की विकास-यात्रा? क्या  पता । कितनी बार बदलूं।
नया सपना है शमशेर और नागार्जुन दोनों  महाकवियों का महामिलन । इनकी काव्यदृष्टि और रचनात्मकता एक ही जगह संभव कर पाऊं । जटिल और सरल का समन्वय, कला और इतिवृत्तात्पकता एक साथ । ध्वनि का अभिधा के साथ पाणिग्रहण ।  नीम की छांह में उगे पीले गुलाबों की खुशबू से नाए रसायन, नए रंग और नई गंध जन्म लें । गुलाबों की शफ्फाक नभ-सी क्यारी में बीजों-सी दबी निबोलियां । इस नई मिट्टी और खाद से उगने वाले फूल, लताएं और वनस्पतियां बनें मेरी कविता ।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “कवि ने कहा : इब्बार रब्बी / Kavi Ne Kaha : Ibbar Rabbi (PB)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *