Sale!

Vrinda

300.00 255.00

ISBN : 978-81-7016-774-7
Edition: 2018
Pages: 200
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Shanta Kumar

Compare
Category:

Description

वृन्दा
“मैं वृन्दा के बिना अपने होने की कल्पना भी नहीं करता । अब कैसे जिऊँगा और क्यों जिऊँगा ? अब मुझे भी कोई रोक नहीं सकता—पर हाँ वृन्दा, जाने से पहले तुमसे एक बात पूछना चाहता हूँ–काना चाहता हूँ… ”  शास्त्री जी कुछ संभलकर खडे हो गए ।
सब उत्सुकता से उनकी और देखने लगे ।
वृन्दा की ओर देखकर शास्त्री जी बोले–“मुझे जीवन के अंतिम क्षण तक एक दु:ख कचोटता रहेगा कि तुमने ‘गीता’ पढी तो सही, पर केवल शब्द ही पढे तुम ‘गीता’ को जीवन में जी न सकी । तुम हमेँ छोड़कर जा रही हो, यह आघात तो है ही; पर उससे भी बड़ा आघात मेरे लिए यह है कि मेरी वृन्दा ‘गीता’ पढ़ने का ढ़ोंग करती रही । जब युद्ध का सामना हुआ तो टिक न सकी । मुझें दु:ख है कि तुमने ‘गीता’ पढ़कर भी न पढी। वृन्दा ! ‘गीता’ सुनकर तो अर्जुन ने गांडीव उठा लिया था और तुम हमें छोड़कर, उस विद्यालय के उन नन्हे-मुन्ने बच्चों को छोड़कर यों भाग रहीं हो मुझे तुम पर इतना प्रबल विश्वास था ।  आज सारा चकनाचूर हो गया । ठीक है, तुम जाओ… जहाँ भी रहो, सुखी रहो…  सोच लूँगा, एक सपना था जो टूट गया ।”
(इसी उपन्यास से)

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Vrinda”

Your email address will not be published. Required fields are marked *