Sale!

प्रियकांत / Priykant

160.00 136.00

ISBN : 978-93-80146-72-0
Edition: 2010
Pages: 112
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Pratap Sehgal

Compare
Category:

Description

प्रियकांत
प्रताप सहगल उन लेखकों में से हैं, जिन्होंने अपने लड़कपन से ही दिल्ली नगर को महानगर और महानगर को सर्वदेशीय नगर (Cosmopolitan City) बनते हुए देखा है। इस बदलाव के साथ जुड़े आर्थिक, सामाजिक, राजनीतिक एवं धार्मिक पहलुओं के बदलते रंगों को भी महसूस किया है। इन बदलते रंगों के साथ बदलते वैयक्तिक संबंधों और मूल्य-मानों पर उनकी पैनी निगाह रहती है। इसीलिए उनके लेखन में निरा वर्णन नहीं होता, बल्कि उसके साथ समय के कई सवाल जुडे रहते हैं। कभी यथार्थ के धरातल पर तो कभी दर्शन कै स्तर पर ।
उनका नया उपन्यास ‘प्रियकांत’ भी कोई अपवाद नहीं है। पिछले तीस-चालीस सालों में धर्म का व्यापारीकरण और बाजारीकरण हुआ है। इसके लिए आम  जन को अपने परोसने के लिए धर्म के नए-नए मंच बने और नए-नए धर्मगुरु तथा धर्माचार्य फिल्मी सितारों की तरह चमकने लगे।
‘प्रियकांत’ एक ऐसे ही धर्माचार्य के उदय और उसके साथ जुही महत्वाकांक्षाओं और विसंगतियों की कथा है। पात्र पौराणिक हो, ऐतिहासिक हों या समकालीन-प्रताप सहगल की नज़र हमेशा उनके माध्यम से समय के साथ मुठभेड़ मर ही रहती है। और इस उपन्यास में भी धर्म, धर्मगुरु, ज्ञान एवं अनुभव से जुड़े कुछ सवाल ही रेखांकित होते हैं…शेखर, नीहार और गुलशन के साथ…आप पढ़ेंगे तो आपको भी लगेगा कि इस कथा में आप भी कहीं न कहीं ज़रूर हैं।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “प्रियकांत / Priykant”

Your email address will not be published. Required fields are marked *