Sale!

लोकमान्य बालगंगाधर तिलक: जीवन दर्शन / Lokmanya Baalgangadhar Tilak : Jeevan Darshan

280.00 238.00

ISBN: 978-93-83234-39-4
Edition: 2019
Pages: 144
Language: Hindi
Format: Hardback

Author : M.A. Sameer

Compare
Category:

Description

1857 की क्रांति ने जो बयार बहाई, उसने घर-घर में मन को छुआ और अगले स्वातंत्र्य समर की—जो अनवरत था और शांत भले ही था, लेकिन थमा नहीं था—रूपरेखा बना दी। इस उत्तरार्द्ध में केवल जोशीले राष्ट्रभक्त ही नहीं हुए बल्कि बौद्धक क्रांति का बिगुल बजाने वाले लोकमान्य बालगंगाधर तिलक असाधारण चिंतक और वक्ता थे जिन्होंने अंग्रेजों की नींद उड़ा दी।
यह पुनर्जागरण का काल था, जिसने समूचे राष्ट्र को एक सूत्र में बांध। इस काल में अनेक राष्ट्रभक्तों का योगदान रहा, जिनमें बालगंगाधर तिलक को राष्ट्रीय आंदोलन की गरम विचारधारा का प्रणेता माना गया। तिलक वह नेता थे, जिनकी अगुवाई में राष्ट्रभक्तों ने अंग्रेजों को भारत छोड़ने के लिए विवश कर दिया। यह पुस्तक ‘लोकमान्य बालगंगाधर तिलक : जीवन दर्शन’ इसी गाथा को अपने में समेटे हुए है।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “लोकमान्य बालगंगाधर तिलक: जीवन दर्शन / Lokmanya Baalgangadhar Tilak : Jeevan Darshan”

Your email address will not be published. Required fields are marked *