Sale!

Kashmir Aur Bharat-Pak Sambandh

550.00 467.50

ISBN: 978-81-88466-13-9
Edition: 2012
Pages: 280
Language: Hindi
Format: Hardback

Author : Ed. Rajendra Tyagi

Compare
Category:

Description

देश-हित को ध्यान में रखते हुए अत्यंत आवश्यक विषयों की ओर दोनों सदनों का ध्यान आकर्षित करने की कला में श्री शास्त्री जी अति निपुण थे । उन्होंने जिन गंभीर विषयों की चर्चा सदन में की थी, आज लगभग 40  वर्षा बाद भी वे विषय, वे प्रश्न ज्यों के त्यों अपने उद्धार की प्रतीक्षा कर रहे हैं । आज राजनीति में सत्य के कहने वाले और सुनने वालों का प्रायः अभाव हो रहा है, ऐसी दशा में लोकोपकारक सत्य को अभिव्यक्ति करने का साहस जुटा पाना किसी निर्भय, वीर पुरुष का ही काम है ।
इस ग्रन्थ में प्रकाशित शास्त्री जी के इन विचारों से देश की जनता तथा नेताओं को एक नई दिशा मिल पाएगी, जिससे देश की गंभीर समस्याओं से निपटने में सही मार्गदर्शन हो सकेगा और पाठक महानुभाव श्री प्रकाशवीर शास्त्री की विद्वत्ता, देशभक्ति, स्पष्टवादिता, वाक्चातुर्य, वर्णन-शैली तथा विषयों की गंभीरता से सुपरिचित हो सकेंगे ।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Kashmir Aur Bharat-Pak Sambandh”

Your email address will not be published. Required fields are marked *