Sale!

Kab Tak Pukaaru

200.00 170.00

ISBN : 978-81-89424-74-9
Edition: 2017
Pages: 112
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Shanta Kumar

Compare
Category:

Description

‘कब तक पुकारूं’ शान्ता कुमार और संतोष शैलजा की कुछ महत्त्वपूर्ण कहानियों का संग्रह है। हिंदी साहित्य में ऐसे अनेक उदाहरण मिलते हैं जहां पति व पत्नी दोनों लेखक के रूप में प्रतिष्ठित होते हैं। जैसेµधार्मवीर भारती-पुष्पा भारती, राजेन्द्र यादव-मन्नू भंडारी, रवीन्द्र कालिया-ममता कालिया। इसी क्रम में शान्ता कुमार और संतोष शैलजा का नाम भी लिया जाना चाहिए। दोनों अत्यंत संवेदनशील, विचारवान और अभिव्यक्ति-निपुण रचनाकार हैं। प्रस्तुत संग्रह की कहानियों को पढ़कर इस बात की तसदीक की जा सकती है।
ये कहानियां विषयवस्तु की दृष्टि से पर्याप्त समृ) हैं। आधाुनिक समाज की विसंगतियों से लेकर चंद्रगुप्त मौर्य-धा्रुवस्वामिनी व नेपोलियन के कथासूत्रें तक रचनाओं का विस्तार है। लेखकद्वय ने मानवता के दृष्टिकोण से कथा-स्थितियों और चरित्रें को विस्तार दिया है। उदाहरण के लिए ‘गोल दायरा’ में नेपोलियन विश्वमानवता एवं सृष्टि-सत्य को उपेक्षित करने के कारण ‘सेंट हेलना’ द्वीप में अंतिम सांस लेने के लिए विवश हुआ था। ‘समर्पण’ में ‘भामति टीकाकार’ वाचस्पति और भामति का अद्भुत दांपत्य मन को छू लेता है। ‘बेतवा की लहरें’, ‘कलाई’, ‘ज्योतिर्मयी’ और ‘जरी-पटका’ कहानियां इतिहास-रस से आप्लावित हैं। ‘कलाई’ की भाषा विशेषतः उल्लेखनीय हैµ‘प्रकाश की धाीमी लौ में धा्रुवस्वामिनी की मानिनी आकृति दमक रही थी। इस साहस व दृढ़ता ने उसके सौंदर्य को सौ गुना बढ़ा दिया था।’
लेखकद्वय मानव मनोविज्ञान के गहरे पारखी हैं। अपनी-अपनी कहानियों में उन्होंने यह सि) भी किया है। ‘जब फ़ूल खिल उठे’ कहानी वैसे तो एक मीठी प्रेम कहानी है, मगर इसमें घर के बच्चों का मनोविज्ञान सुंदर ढंग से व्यक्त किया गया है। इस संग्रह की कुछ रचनाएं अतीत को वर्तमान संदर्भों में देखते हुए विकसित हुई हैं। ‘न्यू सीता’ में स्त्री जीवन का एक नया आयाम है जो पौराणिक सीता से जुदा है। ‘रज्जो काकी’ भी स्त्री विमर्श का एक मार्मिक पक्ष है।
समग्रतः यह कहानी संग्रह दो उत्कृष्ट रचनाकारों की रचनाओं से समृ) है। इसे पढ़ते हुए संवेदना, विचार और इतिहास के अनेक पक्ष झिलमिलाने लगते हैं।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Kab Tak Pukaaru”

Your email address will not be published. Required fields are marked *