Sale!

Jalate Hue Daine Tatha Anya Kahaniyan

225.00 191.25

ISBN : 978-81-7016-348-0
Edition: 2010
Pages: 216
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Himanshu Joshi

Compare
Category:

Description

जलते हुए डैने तथा अन्य कहानियाँ
‘जलते हुए डैने’ से ‘इस बार’ तक की कथा-यात्रा के ये अनेक पड़ाव है । अनुभव एवं अनुभूतियों के कई अक्स ! जीवन और जगत में जो हो रहा है, उसके कुछ धुँधले, कुछ उजले रेखा-चित्र ! पर रेखा-चित्रों में यथार्थ की मात्र रेखाएँ ही नहीं, कहीं-कहीं कुछ रंग भी है, जो मिट कर मिटते नहीं । घुलने के बावजूद भी घुलते नहीं । स्मृति-पटल पर ऐसे अंक्ति हो जाते है, जैसे पाषाण पर उकेरी गहरी रेखाएँ । रेखाओं की भी अपनी भाषा होती है । रेखाओं के भी अपने सुख-दु:ख, अपनी व्यथा-वेदना होती है ।  इस निखिल सृष्टि में ऐसा कुछ भी तो नहीं, जो अर्थपूर्ण न हो ! जिसकी अपनी कोई सार्थकता न हो !
अनेक सत्यों को परिभाषित करती ये सरल, सहज, सपाट-सी कहानियाँ, कहीं कुछ न कह कर भी कितना कुछ नहीं कह जाती । असत्य का यथार्थ, सत्य के यथार्थ से सम्भवत: आज़ अधिक गहरा होता है । अधिक विस्तृत, अधिक प्रामाणिक । प्रासंगिक ही नहीं, अधिक आकर्षक भी । शायद इसलिए हर दौड़ में सत्य के पाँव, झूठ से पीछे रह जाते हैं ।  पर असत्य जीत कर भी हार क्यों जाता है ? जल में पड़ी परछाई पकड़ने की तरह आदमी कुछ चाहता है । परन्तु जो है, और जो होना चाहिए के बीच की संधि-रेखा इतनी धुँधली क्यों है ?
लेखक की संपूर्ण कहानियाँ तीन खण्डों में प्रस्तुत है :
० अन्तत: तथा अन्य कहानियाँ
० मनुष्य-चिह्न तथा अन्य कहानियाँ
० जलते हुए डैने तथा अन्य कहानियाँ

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Jalate Hue Daine Tatha Anya Kahaniyan”

Your email address will not be published. Required fields are marked *