Sale!

Deevaar ke Us Paar

200.00 170.00

ISBN: 978-93-83234-74-5
Edition: 2017
Pages: 124
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Shanta Kumar

Compare
Category:

Description

दीवार के उस पार
इस पुस्तक से एक कैदी ने जेल से भोगे अपने मूक कष्टों को शब्द दिए हैँ। यह कैदी मेरे जीवन की आशा हैं- मेरे पति, जिन्होंने अपने जीवन से दो बार जेल की घोर यातनाएँ झेली है और अँधेरों के पार कुछ देखने की लगातार कोशिश की है । एक बार उन्हें 1953 में और दूसरी बार 1973 में जेल जाना पडा । उनका सहानुभूति-भरा हृदय और सृजनात्मक मानस उन्हें उन दिनो लिखने के लिए विवश करता रहा और उन्होंने कुछ कहानियों, उपन्यास, कविताएं  और जेल-संस्मरण लिखे ।
ये संस्मरण जेल से उनके जीवन को दर्शन है-उसके लिए जो कभी जेल न गया हो-भगवान् ऐसा अवसर कभी दे भी न-ये अनुभव अत्यंत रोमांचक और हृदयविदारक होंगे । -संतोष शैलजा

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Deevaar ke Us Paar”

Your email address will not be published. Required fields are marked *