Sale!

Barhai, Kumhaar Aur Kavi

500.00 425.00

ISBN: 978-93-82114-19-2
Edition: 2013
Pages: 296
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Ekant Shrivastava

Compare
Category:

Description

बढ़ई, कुम्हार और कवि
एकान्त श्रीवास्तव मूलतः कवि हैं, काल सजग कवि। यह सजगता उन्हें समय और समाज की विसंगतियों को देखने और कविता में दर्ज करने के साथ-साथ अपनी काव्य परंपरा की पड़ताल की ओर भी ले जाती है। ‘कविता का आत्मपक्ष’ के बाद यह उनकी दूसरी आलोचना पुस्तक है, जिसमें उन्होंने मुक्तिबोध से विष्णु नागर तक बाईस कवियों के संपूर्ण रचनात्मक अवदानों अथवा चर्चित कविताओं को केंद्र में रखकर आजादी के बाद की कविता पर विचार करने का उपक्रम किया है।
इन आलेखों की विशेषता यह है कि इनमें अपने समय की रचनाशीलता को पृष्ठभूमि में रखकर निकट पूर्व के कवियों के सृजन को समझने की सार्थक कोशिश की गई है, जिससे आलोचना में केवल शैलीगत नयापन ही नहीं आया है, कुछ कविताओं के नए अर्थ भी उद्घाटित हुए हैं। इस दृष्टि से यह पुस्तक एक उपलब्धि है, क्योंकि यही वह काम है जो पेशेवर आलोचना नहीं कर पाती, जो राजेश जोशी, विजय कुमार और लीलाधर मंडलोई जैसे कवि ही कर पाते हैं। और अब इस कड़ी में एक नाम एकान्त का भी जुड़ गया है।
नौवें दशक के कवियों के सृजन संसार से तो हिंदी के पाठक परिचित रहे हैं, लेकिन उनकी समझ के विस्तार की जानकारी देने वाली शायद यह पहली किताब है जिसका स्वागत किया जाना चाहिए। पुस्तक में कुछ और भी ऐसी सामग्री है जो पाठकों का ध्यान खींचेगी।
–मदन कश्यप

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Barhai, Kumhaar Aur Kavi”

Your email address will not be published. Required fields are marked *