Sale!

अस्पृश्य / Asprishya

200.00 170.00

ISBN : 978-93-82114-61-1
Edition: 2016
Pages: 104
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Ajay Mahapatra

Compare
Category:

Description

ईश्वर की बनाई दुनिया में हर व्यक्ति समान है। सबमें परमात्मा का अंश है। सब उसी परमज्योति से आलोकित हैं। पिफर यह असमानता, अन्याय, शोषण, भेदभाव, जातिवाद, नस्लवाद क्यों! ये मनुष्य की बनाई अवधरणाएं हैं। इनके कारण जाने कितने व्यक्तिगत और सामाजिक संकट उत्पन्न होते रहते हैं। समय-समय पर इनका प्रतिरोध विभिन्न रूपों में सामने आता है। प्रतिवाद और प्रतिरोध का एक विशिष्ट स्वर अजय महापात्र के उपन्यास ‘अस्पृश्य’ में सुना जा सकता है।
प्रस्तुत पुस्तक में मानवीय संवेदना का गहन प्रभाव है। लेखक ने कला-कौशल या शाब्दिक साहस के स्थान पर कथ्य को प्रमुखता दी है। यह समय को स्पष्ट और सतर्क ढंग से प्रस्तुत करने का रचनात्मक उपक्रम है।
‘अस्पृश्य’ एक शब्द भर नहीं, मात्रा एक भाव संवेद नहीं; यह निरंतर सक्रिय समय का आख्यान है। इसमें समय और समाज के बहुतेरे बिंब देखे जा सकते हैं।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “अस्पृश्य / Asprishya”

Your email address will not be published. Required fields are marked *