Sale!

वे लौटेंगे फिर / Ve Lautenge Phir

60.00 51.00

Edition: 1998
Pages: 80
Language: Hindi
Format: Hardback

Author : Janardan Mishra

Compare
Category:

Description

वे लौटेंगे फिरनवे दशक में उभरकर आये युवा कवियों में जनार्दन मिश्र का विशेष स्थान है। इनकी लगभग सभी कविताएँ विभिन्न स्तरीय पत्र-पत्रिकाओें में प्रकाशित हो चुकी है। ‘वे लौटेंगे फिर’ इनका पहला काव्य संकलन है। इसमें दिन-ब-दिन जटिल होते जीवन के चित्र मिलते हैं।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “वे लौटेंगे फिर / Ve Lautenge Phir”

Your email address will not be published. Required fields are marked *