Sale!

मिलियन डॉलर नोट तथा अन्य कहानियां / Miliyan Dollar Note Tatha Anya Kahaniyan (PB)

80.00 72.00

ISBN : 978-93-80048-28-4
Edition: 2018
Pages: 80
Language: Hindi
Format: Paperback


Author : Malti Joshi

Compare
Category:

Description

मिलियन डॉलर नोट तथा अन्य कहानियां
अम्मा ने जैसे ही पाउच आगे बढाया, मीनू ने एक झटके से हाथ हटा लिया, जैसे उसे बिजली का करंट लग गया हो, “नहीं अम्मा । अब मैं यह हार नहीं लूंगी ।”
“क्यों? मेरी चीज है । मैं दे रही हूँ।”
“हाँ, पर इस हार को लेकर तुम पता नहीं क्या-क्या सोच गई थीं। तुमने तो भाभी को भी कठघरे में खडा कर दिया था । कल को भाभी भी ऐसा कर सकती है । भाभी तो यही सोचेगी कि यह चीज तीन साल पाले ही तुमने मुझे दे दी होगी और किसी को बताया तक नहीं । वह तो सोचेंगी कि इस तरह तुमने और भी बहुत कुछ दिया होगा, जिसका उसे पता नहीं है । मैं तो शर्म के मारे भैया के सामने खडी भी न हो सकूंगी।  “
“इसमें शर्म की क्या बात हैं ! क्या मुझे इतना भी हक नहीं है ?”
“अम्मा, तुम्हारे हक से भी महत्त्वपूर्ण है भैया-भाभी का विश्वास, जो मैं तोड़ना नहीं चाहती । रिश्ते नाजुक होते हैं अम्मा, दर्पण की तरह । एक बार दरक गए तो किसी मतलब के नहीं रहते । और मैं इन रिश्तों को सहेजना चाहती हूँ। मैं चाहती हूं कि तुम्हारे जाने के बाद भी इस घर में मेरा दाना-पानी बना रहे । मैं जब-जब भारत आऊं, इस घर के दरवाजे मुझे खुले मिले ताकि मैं तुम्हारी यादों को फिर से जी सकूं । कल को मेरे बच्चों की शादियां हों तो मैं हक के साथ भात मांगने आ सकूं । ये मेरे पीहर की देहरी है अम्मा । मेरे लिए किसी भी हार से ज्यादा कीमती है । प्लीज, इसे मुझसे मत छीनो ।” और यह बात कहते- कहते मीनू का गला भर आया । आंखें छलछला आईं ।
अम्मा ने आगे बढ़कर उसे गले से लगा लिया और उसकी पीठ पर हाथ फेरते हुए बोली, “अरे वाह, मेरी लाडो तो मुझसे भी ज्यादा समझदार हो गई है ।” और यह कहते हुए उनकी भी आवाज भीग गई थी।
(इसी संग्रह की कहानी ‘चंद्रहार’ से)

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “मिलियन डॉलर नोट तथा अन्य कहानियां / Miliyan Dollar Note Tatha Anya Kahaniyan (PB)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *