Sale!

चरित्र-निर्माण: क्या? क्यों? कैसे? / Charitra-Nirmaan : Kya? Kyon? Kaise?

100.00 85.00

ISBN: 978-81-88125-52-4
Edition: 2013
Pages: 100
Language: Hindi
Format: Hardback

Author : Dharam Pal Shastri

Compare
Category:

Description

लोगों का यह वहत है कि संत-महात्माओं को ही चरित्र की आवश्यकता है, गृहस्थियों और दुनियादारों को नहीं। अब जानते हैं कि संत लोग जंगल के एकांत में रहते हैं। न उन्हें ऊधो का लेना, न माधो का देना। न किसी से मिलना-मिलाना, न किसी प्रकार का व्यापार-व्यवहार करना। इस प्रकार जो रहता ही अकेला है, भला वह किसी को सतायेगा क्या? झूठ बोले तो किससे? धोखा दे तो किसे? अतः उनके जीवन में शान्ति-संतोष और भगवद्भजन के अतिरिक्त अन्य चारित्रिक गुणों का व्यवहार करने के अवसर ही बहुत कम आते हैं।
-इसी पुस्तक से

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “चरित्र-निर्माण: क्या? क्यों? कैसे? / Charitra-Nirmaan : Kya? Kyon? Kaise?”

Your email address will not be published. Required fields are marked *