Sale!

Sangh Pracharak Maun Tapasvi

500.00 425.00

ISBN : 9789386231390
Edition: 2016
Pages: 128
Language: Hindi
Format: Hardback
Author : Moolchand Ajmera

Compare
Category:

Description

कला अभिरुचि : मानवीय संवेदनात्मक दृष्टि के कारण कलात्मक संबद्धता एवं चित्रांकन के प्रति नैसर्गिक झुकाव एवं कला का सहज अंकुरण। पिलानी में अध्ययनकाल में कला अध्यापक प्रख्यात चित्रकार श्री भूरसिंह जी शेखावत की प्रेरणा से आरंभिक कलासर्जन का वास्तविक प्रस्फुटन। तभी से चित्रांकन की अविरल, अविराम यात्रा आरंभ। शांति निकेतन के सुप्रसिद्ध चित्रकार श्री नंदलाल बोस से जीवंत साक्षात्कार के पश्चात् कलासर्जन के प्रति गहन समर्पण एवं प्रेरणा। जीवनपर्यंत ग्राम्यबोध से अनुप्राणित चित्रों का सृजन।
विशेष : विगत चार दशकों में निरंतर सृजनरत रहकर लगभग साठ हजार से अधिक चित्रों का सृजन। मात्र 2-3 मिनट में व्यक्ति का त्वरित स्केच बनाने में सिद्धहस्त। भारत के श्रेष्ठ राजनैतिक, सामाजिक, धार्मिक, साहित्यिक एवं कला साधना के शिखरपुरुषों के चित्र बनाए। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के द्वितीय सरसंघचालक पूजनीय श्रीगुरुजी (मा.स. गोलवलकर) की जन्म शताब्दी के उपलक्ष्य में उनके संपूर्ण जीवन पर सौ चित्रों की शृंखला का सृजन। कश्मीर से कन्याकुमारी तथा सोमनाथ से शिलांग की यात्राओं के दौरान जीवन एवं प्राकृतिक दृश्यों के जीवंत असंख्य रेखाचित्रों का अंकन। भारत के महानगरों की कला दीर्घाओं का अवलोकन, ग्रामीण परिवेश के रेखांकन में विशेष रुचि, ‘ग्राम्य जीवन के मनोरम रेखाचित्र’ तथा ‘श्रीगुरुजी रेखाचित्र दर्शन’ प्रकाशित। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ चित्तौड़ प्रांत के पूर्व संघचालक तथा संस्कार भारती चित्तौड़ प्रांत के संरक्षक। राष्ट्र सेवा तथा कला सर्जन ही जीवन का मुख्य ध्येय।
स्मृतिशेष :13 सितंबर, 2015

___________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________

 

अनुक्रम

प्रस्तावना —Pgs. 11

आत्मकथ्य —Pgs. 13

कृतज्ञता-ज्ञापन —Pgs. 13

हमारी तेजस्वी मातृभूमि —Pgs. 17

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ सृजनशीलता का पुण्य प्रवाह —Pgs. 18

महर्षि दधीचि —Pgs. 21

1. प.पू. डॉ. केशवराव बलिराम हेडगेवार —Pgs. 22

2. प.पू. श्रीगुरुजी —Pgs. 23

3. प.पू. बालासाहब देवरस —Pgs. 24

4. प.पू. राजेंद्र सिंहजी —Pgs. 25

5. मा. सुदर्शनजी —Pgs. 26

6. मा. बाबासाहब आपटे —Pgs. 27

7. मा. आप्पाजी जोशी —Pgs. 28

8. मा. भैयाजी दाणी —Pgs. 29

9. मा. दादाराव परमार्थ —Pgs. 30

10. मा. कृष्णराव मोहरिर —Pgs. 31

11. मा. पं. बच्छराज व्यास —Pgs. 32

12. मा. पं. दीनदयाल उपाध्याय —Pgs. 33

13. मा. एकनाथ रानाडे —Pgs. 34

14. मा. यादवराव जोशी —Pgs. 35

15. मा. माधवराव मुले —Pgs. 36

16. मा. बाबासाहब घटाटे —Pgs. 37

17. मा. भाऊराव देवरस —Pgs. 38

18. मा. भाऊसाहेब भुस्कुटे —Pgs. 39

19. मा. बसंतराव ओक —Pgs. 40

20. मा. डॉ. आबाजी थत्ते —Pgs. 41

21. मा. मोरोपंत पिंगले —Pgs. 42

22. मा. राजाभाऊ पातुरकर —Pgs. 43

23. मा. दादासाहब आपटे —Pgs. 44

24. मा. बापूराव मोघे —Pgs. 45

25. मा. नानाजी देशमुख —Pgs. 46

26. मा. दत्तोपंत ठेंगड़ी —Pgs. 47

27. मा. सुंदरसिंहजी भंडारी —Pgs. 48

28. मा. कुशाभाऊ ठाकरे —Pgs. 49

29. मा. जगन्नाथ राव जोशी —Pgs. 50

30. मा. हरिभाऊ वाकणकर —Pgs. 51

31. मा. बालासाहब देशपांडे —Pgs. 52

32. मा. बड़े भाई रामनरेश सिंह —Pgs. 53

33. मा. हो.वे. शेषाद्रि —Pgs. 54

34. मा. लक्ष्मण राव भिड़े —Pgs. 55

35. मा. बाबा राव भिड़े —Pgs. 56

36. मा. श्रीराम साठे —Pgs. 57

37. मा. राजपाल पुरी —Pgs. 58

38. मा. मधुकरजी भागवत —Pgs. 59

39. मा. यादवराव कालकर —Pgs. 60

40. मा. पांडुरंग पंत क्षीरसागर —Pgs. 61

41. मा. बाबूराव पालधीकर —Pgs. 62

42. मा. लक्ष्मणराव इनामदार —Pgs. 63

43. मा. यशवंतराव केलकर —Pgs. 64

44. मा. बसंतराव केलकर —Pgs. 65

45. मा. दत्ताजी डिंडोलकर —Pgs. 66

46. मा. बापूराव वहृडपांडे —Pgs. 67

47. मा. भास्कर राव —Pgs. 68

48. श्री सदाशिव राव गोविंद कात्रे —Pgs. 69

49. मा. मधुसूदन देव —Pgs. 70

50. मा. शिवराम पंत जोगलेकर —Pgs. 71

51. मा. लज्जारामजी तोमर —Pgs. 72

52. मा. चमनलालजी —Pgs. 73

53. मा. जगदीशप्रसादजी माथुर —Pgs. 74

54. मा. अधीश कुमारजी —Pgs. 75

55. मा. माधवराव देवले —Pgs. 76

56. मा. शरदजी मेहरोत्रा —Pgs. 77

57. मा. विश्वनाथजी —Pgs. 78

58. मा. ठाकुर रामसिंहजी —Pgs. 79

59. मा. ओंकार भावे —Pgs. 80

60. मा. नरमोहनजी दोसी —Pgs. 81

61. मा. ज्योतिस्वरूपजी —Pgs. 82

62. मा. रामशंकर अग्निहोत्री —Pgs. 83

63. मा. श्रीकांत जोशी —Pgs. 84

64. मा. ब्रह्मदेव शर्मा —Pgs. 85

65. मा. कृष्णचंद्र भार्गव (किशन भैया) —Pgs. 86

66. मा. गिरिराज शास्त्री (दादाभाई) —Pgs. 87

67. मा. सूर्यप्रकाशजी —Pgs. 88

68. मा. ठाकुरदासजी टंडन —Pgs. 89

69. मा. भँवरसिंहजी शेखावत —Pgs. 90

70. मा. लक्ष्मणसिंहजी शेखावत —Pgs. 91

71. मा. गोपीचंदजी —Pgs. 92

72. मा. जयदेवजी पाठक —Pgs. 93

73. वंदनीया लक्ष्मीबाई केलकर —Pgs. 94

74. वंदनीया सरस्वती बाई आपटे —Pgs. 95

मौन तपस्वियों के सान्निध्य में : संस्मरण —Pgs. 96

पत्र-प्रेरणा —Pgs. 104

प्रेरक प्रसंग —Pgs. 113

स्वामी विवेकानंद —Pgs. 120

चित्र वीथी —Pgs. 121

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Sangh Pracharak Maun Tapasvi”

Your email address will not be published. Required fields are marked *