Sale!

Pustak ki Niyati

400.00 340.00

ISBN: 978-81-934325-3-2
Edition: 2019
Pages: 188
Language: Hindi
Format: Hardback

Author : Dr. Pravesh Saxena

Compare
Category:

Description

इक्कीसवीं सदी के इस साइबर युग में जबकि इंटरनेट, किंडल, ई-बुक आदि का प्रचलन बढ़ता जा रहा है तो पुस्तक के भविष्य को लेकर चिंता होना स्वाभाविक है। क्या होगा मुद्रित पुस्तक का भविष्य? क्या वह अज़ायबघर की एक वस्तु बनकर रह जाने वाली है? फिर पुस्तक की नियति के बारे में और भी प्रश्न मन में घुमड़ने लगते हैं? कैसे वह अस्तित्व में आई, कैसे मनुष्य ने लिखना सीखा, प्रथम पुस्तक प्रस्तर पर लिखी गई या भोजपत्र पर, काग़ज़ कब, कहाँ से आया? आदि-आदि। प्रथम मुद्रित पुस्तक किस भाषा में थी, क्या नाम था उसका? अर्थात् ‘पुस्तक की नियति’ को लेकर उसके ‘कल, आज और कल’ से संबंधित प्रश्न अगणित हैं। पुस्तक के जन्म और विकास की गाथा के सूत्र जहाँ एक साथ मिल सकें-ऐसी कोई ‘पुस्तक’ पुस्तक पर नहीं मिलती है। डॉ. प्रवेश सक्सेना ने अत्यंत परिश्रमपूर्वक शोधकार्य करके इन सूत्रों को एकत्रित करने का प्रयास किया है। उनका यह कार्य भारतीय और वैश्विक दोनों संदर्भों में ‘पुस्तक की नियति’ को जानने-समझने की कोशिश है। पुस्तक के मूल, उसके लेखक, पाठक और यहाँ तक कि लेखन सामग्री और पुस्तकालयों तक पर विस्तार से चर्चा इस पुस्तक में की गई है। ई-बुक का चमत्कारपूर्ण संसार यहाँ वर्णित है तो समय-समय पर विद्वानों द्वारा पुस्तक के महत्त्व के विषय में टिप्पणियाँ भी यहाँ संगृहीत हैं। पुस्तक को लेकर संस्कृत और हिंदी की कुछ कविताएँ भी संकलित की गई हैं। बहुत ही रोचक अंदाज़ में लिखी गई इस पुस्तक में पुस्तक से संबद्ध कुछ रोचक तथ्य भी मौजूद हैं। कुल मिलकर कहें तो यह ‘पुस्तक’ इस क्षेत्र में एक बड़े शून्य को भरती है। लेखिका पूर्णतः आशावादी हैं ‘पुस्तक की नियति’ के बारे में। पुस्तक थी, है और हमेशा रहेगी।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Pustak ki Niyati”

Your email address will not be published. Required fields are marked *