Sale!

Phir Palash Dahke Hain

150.00 127.50

ISBN: 978-81-89859-89-3
Edition: 2008
Pages: 118
Language: Hindi
Format: Hardback

Author : Kanhaiya Lal Vajpayee

Compare
Category:

Description

फिर पलाश दहके हैं
गीतकार कन्हैया लाल वाजपेयी आपको गली, नगर, क़स्बा, चौबारों, किसी नदी के पास अथवा सूखे तट पर, कहीं भी सहज और सामान्य रूप से गाता-गुनगुनाता घूमता मिल सकता है । मिलने को तो बाजार में भी मिल जाएगा, लेकिन बाजार में बेच सकने के लिए इसके पास कुछ है नहीं-
हम खाली जेबों में
बाजार लिए घूमे… ।
का यह गायक बाजार में मिल जाने पर भी-
नयनों की चितवन
अधरों की लाली
फूलों की मुस्कानों’ का गाहक हूँ ।
जैसे ग्राहक के ही रूप में अपना परिचय देता महसूस होगा ।
इन कन्हैया लाल वाजपेयी ने अपनी अब तक की भिन्न-भिन्न ‘मूड’ (मानसिकताओं) को गीत-  यात्राओं में अपने जो चरण-चिह्न छोडे हैं वे राजमहल से लेकर गलियों, चौबारों, घाटियों और नदी तटों तक बिलकुल साफ, गहरे और स्पष्ट हैं ।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Phir Palash Dahke Hain”

Your email address will not be published. Required fields are marked *