Sale!

Pagdandi Chhip Gayi Thee : Chhattisgarh Par Ekagra Kavitayen

200.00 170.00

ISBN: 978-93-85054-41-9
Edition: 2015
Pages: 112
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Dr. Sanjay Alag

Compare
Category:

Description

संजय अलंग की कविताओं में सामाजिक, मानवीय सोच और दृष्टि की उजास का परिचय मिलता है। इसी रास्ते वे जनसामान्य की कठिनाइयों और कठोर सच्चाइयों को प्रत्यक्ष करते हैं, जिससे संघर्ष के रास्ते खुलते हैं। जीवन के सच को समय से जोड़ देने की कला भी इन कविताओं में सहज उपस्थित है बिना किसी अतिरिक्त शोर के। कहा जा सकता है कि छत्तीसगढ़ में संघर्षरत अस्मिताओं का विमर्श कविताओं की तहों में बावस्ता है जिसे धैर्य से पढ़ना अपेक्षित है।
संजय अलंग की कविताओं में भरोसे के स्वर विन्यस्त हैं। उनका अगला संग्रह इस जमीन के राग से अधिक परिपक्व होगा, ऐसी उम्मीद है।
-लीलाधर मंडलोई

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Pagdandi Chhip Gayi Thee : Chhattisgarh Par Ekagra Kavitayen”

Your email address will not be published. Required fields are marked *