Sale!

Mere Saakshaatkar : Bhawaniprasad Mishra

280.00 238.00

ISBN : 978-93-82114-48-2
Edition: 2013
Pages: 150
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Bhawaniprasad Mishra

Compare
Category:

Description

हिंदी के पाठक और आलोचक, मुझे केवल गांधीवादी कवि कहकर पढ़ते-प्यार करते हैं पर मैं कोरा गांधीवादी नहीं हूं-मेरे चिंतन पर अनेक विचार प्रभाव कार्य करते हैं-अद्वैत दर्शन का भी मुझ पर गहरा असर है। जय प्रकाश और राममनोहर लोहिया का भी। कभी-कभी लगता है, लोहिया की तरह मैं भी एक कुजात गांधीवादी हूं।
-इसी पुस्तक से

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Mere Saakshaatkar : Bhawaniprasad Mishra”

Your email address will not be published. Required fields are marked *