Sale!

Khalil Zibran Ki Lokpriya Kahaniyan

350.00 297.50

ISBN : 9789380823829
Edition: 2017
Pages: 144
Language: Hindi
Format: Hardback
Author :Mozej Michael

Compare
Category:

Description

एक सीप ने अपने पड़ोसी सीप से कहा, ‘‘मेरे अंदर बहुत दर्द है। यह भारी व गोल है और मैं परेशानी
में हूँ।’’
दूसरे सीप ने दंभ और इत्मीनान से कहा, ‘‘ईश्वर और सागर की कृपा है, मेरे अंदर कोई दर्द नहीं है। मैं अंदर और बाहर दोनों ही तरफ से अच्छा, भला-चंगा हूँ।’’
पहले सीप ने कहा, ‘‘हाँ, तुम अच्छे-भले और चंगे हो, लेकिन तुम्हारा पड़ोसी जो दर्द झेल रहा है,
वह बेहद खूबसूरत एक मोती के बनने का है।’’
—इसी पुस्तक से

विश्व-विख्यात दार्शनिक एवं विचारक खलील जिब्रान की लोकप्रिय व चर्चित कहानियाँ, जो मनोरंजक तो हैं ही, मानवीय संवेदना और मार्मिकता से भरपूर होने के कारण पाठकों के दिल तक उतर जाती हैं। जीवन का यथार्थ और मायने बतातीं रोचक कहानियाँ।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Khalil Zibran Ki Lokpriya Kahaniyan”

Your email address will not be published. Required fields are marked *