Sale!

कवि ने कहा : केदारनाथ सिंह / Kavi Ne Kaha : Kedarnath Singh

190.00 161.50

ISBN : 978-93-83233-39-7
Edition: 2014
Pages: 120
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Kedarnath Singh

Compare
Categories: ,

Description

कवि ने कहा : केदारनाथ सिंह
कवि केदारनाथ सिंह के अब तक प्रकाशित संपूर्ण कृतित्व से उनकी प्रतिनिधि कविताओं को छाँट निकालना एक कठिन काम है और चुनौती भरा भी। इस संकलन को तैयार करने में पहली कसौटी मेरी अपनी पसंद ही रही है। पचास वर्षों में फैले कृतित्व में से श्रेष्ठतर को छाँटकर यहाँ प्रस्तुत कर दिया है, ऐसा दावा मेरा बिलकुल नहीं है। हाँ, इतनी कोशिश अवश्य की है कि केदार जी की कविता के जितने रंग है, जितनी भगिमाएँ है उनकी थोडी-बहुत झलक और आस्वाद पाठक को मिल सके…यूँ चयन-दृष्टि का पता तो कविताएँ खुद देंगी ही।
कविताओं को चुनने और उन्हें अनुक्रम देने में यह कोशिश जरूर रहीं है कि पाठकों को ऐसा न लगे कि कविताओं को यहाँ किसी विशिष्ट श्रेणीबद्ध क्रम में बाँटकर सजाया गया है। भिन्न भाव बोध, रंग और मूड्स की कविताओं को एक साथ रखकर बस घंघोल भर दिया है-एक निरायासज़न्य सहजता के साथ पाठकों को पढ़ते समय जिससे किसी क्रम विशेष में आबद्ध होकर पढने जैसी प्रतीति न हो, बल्कि तरतीब में बनावटी साज-सज्जा से दूर एक मुक्त विचरण जैसा प्रकृत आस्वाद मिल सके ।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “कवि ने कहा : केदारनाथ सिंह / Kavi Ne Kaha : Kedarnath Singh”

Your email address will not be published. Required fields are marked *