बुक्स हिंदी 

Sale!

Jo Nahin Hain

125.00 106.25

ISBN: 978-81-7016-349-7
Edition: 2000
Pages: 168
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Ashok Vajpayee

Out of stock

Category:
जो नहीं है
यह मृत्यु और अनुपस्थिति की एक अद्वितीय पुस्तक है । राग और विराग का पारंपरिक द्वैत यहाँ समाप्त है । अवसाद और आसक्ति पडोसी है । यह जीवन से विरक्ति की नहीं, अनुरक्ति की पोथी है ।  मृत्यु मनुष्य का एक चिरन्तन सरोकार है और चूँकि कविता मनुष्य के बुनियादी सरोकारों को हर समय में खोज़ती-सहेजतो है, वह आदिकाल से एक स्थायी कवियमय भी है ।   विचार- शीलता और गहरी ऐन्द्रियता के साथ अशोक वाजपेयी ने  अपनी कविता में वह एकान्त खोजा-रचा है जिसमें मनुष्य का यह चरम प्रश्न हमारे समय के अनुरूप सघन मार्मिकता और बेचैनी के साथ विन्यस्त हुआ है ।
यहाँ मृत्यु या अनुपस्थिति कोई दार्शनिक प्रत्यय न होकर उपस्थिति है । वह नश्वरता की ठोस सचाई का अधिग्रहण करते हुए अनश्वरता का सपना देखने वाली कविता है-अपने गहरे अवसाद के बावजूद वह जीने से विरत नहीं करती । बल्कि उस पर मँडराती नश्वरता की छाया जीने की प्रक्रिया को अधिक समुत्सुक और उत्कट करती चलती है ।
दैनन्दिन जीवन से लेकर भारतीय मिथ के अनेक बिम्बो और छवियों को अशोक वाजपेयी ने मृत्यु को समझने-सहने  की युक्तियों के रूप में इस्तेमाल किया है । उनकी गीति-सम्वेदना यहाँ महाकाव्यात्मक आकाश को चरितार्थ करती है और उन्हें फिर एक रूढ हो गये द्वैत से अलग एक संग्रथित और परिपक्व कवि सिद्ध करती है ।
यहीं किसी तरह की बेझिलता और दुर्बोधता नहीं, पारदर्शी लेकिन ऐंद्रिक चिंतन है, कविता सोचती-विचारती है पर अपनी ही ऐंद्रिक प्रक्रिया से ।
अशोक वाजपेयी के कविता-संसार की व्यापकता का यह संचयन नया साक्ष्य है । इसमें उनकी मृत्यु और अनुपस्थिति सम्बन्धी लगभग उतनी ही कविताएँ है जितनी कि उनकी प्रेम-कविताओँ के संकलन थोडी-सी जगह में प्रेम को लेकर थीं । हिन्दी के सबसे लम्बे विदागीत बहुरि अकेला को भी इस संचयन में शामिल किया गया है जो अपने संगीतकार-मित्र कुमार गन्धर्व के देहावसान के बद कवि ने इक्कीस स्वतन्त्र कविताओं के एक क्रम के रूप में लिखा था।
Home
Account
Cart
Search
×

Hello!

Click one of our contacts below to chat on WhatsApp

× How can I help you?