Sale!

Jo Nahin Hain

125.00 106.25

ISBN: 978-81-7016-349-7
Edition: 2000
Pages: 168
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Ashok Vajpayee

Compare
Category:

Description

जो नहीं है
यह मृत्यु और अनुपस्थिति की एक अद्वितीय पुस्तक है । राग और विराग का पारंपरिक द्वैत यहाँ समाप्त है । अवसाद और आसक्ति पडोसी है । यह जीवन से विरक्ति की नहीं, अनुरक्ति की पोथी है ।  मृत्यु मनुष्य का एक चिरन्तन सरोकार है और चूँकि कविता मनुष्य के बुनियादी सरोकारों को हर समय में खोज़ती-सहेजतो है, वह आदिकाल से एक स्थायी कवियमय भी है ।   विचार- शीलता और गहरी ऐन्द्रियता के साथ अशोक वाजपेयी ने  अपनी कविता में वह एकान्त खोजा-रचा है जिसमें मनुष्य का यह चरम प्रश्न हमारे समय के अनुरूप सघन मार्मिकता और बेचैनी के साथ विन्यस्त हुआ है ।
यहाँ मृत्यु या अनुपस्थिति कोई दार्शनिक प्रत्यय न होकर उपस्थिति है । वह नश्वरता की ठोस सचाई का अधिग्रहण करते हुए अनश्वरता का सपना देखने वाली कविता है-अपने गहरे अवसाद के बावजूद वह जीने से विरत नहीं करती । बल्कि उस पर मँडराती नश्वरता की छाया जीने की प्रक्रिया को अधिक समुत्सुक और उत्कट करती चलती है ।
दैनन्दिन जीवन से लेकर भारतीय मिथ के अनेक बिम्बो और छवियों को अशोक वाजपेयी ने मृत्यु को समझने-सहने  की युक्तियों के रूप में इस्तेमाल किया है । उनकी गीति-सम्वेदना यहाँ महाकाव्यात्मक आकाश को चरितार्थ करती है और उन्हें फिर एक रूढ हो गये द्वैत से अलग एक संग्रथित और परिपक्व कवि सिद्ध करती है ।
यहीं किसी तरह की बेझिलता और दुर्बोधता नहीं, पारदर्शी लेकिन ऐंद्रिक चिंतन है, कविता सोचती-विचारती है पर अपनी ही ऐंद्रिक प्रक्रिया से ।
अशोक वाजपेयी के कविता-संसार की व्यापकता का यह संचयन नया साक्ष्य है । इसमें उनकी मृत्यु और अनुपस्थिति सम्बन्धी लगभग उतनी ही कविताएँ है जितनी कि उनकी प्रेम-कविताओँ के संकलन थोडी-सी जगह में प्रेम को लेकर थीं । हिन्दी के सबसे लम्बे विदागीत बहुरि अकेला को भी इस संचयन में शामिल किया गया है जो अपने संगीतकार-मित्र कुमार गन्धर्व के देहावसान के बद कवि ने इक्कीस स्वतन्त्र कविताओं के एक क्रम के रूप में लिखा था।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Jo Nahin Hain”

Your email address will not be published. Required fields are marked *