Sale!

Jeevan Dhara

400.00 340.00

ISBN : 9789352663965
Edition: 2017
Pages: 192
Language: Hindi
Format: Hardback
Author : Renu Saini

Compare
Category:

Description

यूपी -100 एक ऐसा संगठन है, जो अपराधियों को तो पकड़ता ही है, इसके साथ ही यह संगठन उन नागरिकों की सेवा में भी तत्काल हाजिर हो जाता है, जो अपने दुःखों और परेशानियों से घबराकर झगड़ों, विवादों और दुर्घटनाओं को आमंत्रित करते हैं। यूपी-100 की पुलिस नागरिकों के झगड़ों, विवादों और दुर्घटनाओं पर नियंत्रण करती है और उन्हें जिंदगी के साथ ही आगे बढ़ने की एक नवीन किरण प्रदान करती है।
यूपी-100 उत्तर प्रदेश राज्य का एक बड़ा संगठन है, जो पूरे प्रदेश के साथ ही देश व विदेश के नागरिकों की रक्षा के लिए दृढ-प्रतिज्ञ है। आज यह संगठन जिस तेजी और चतुराई से आम जन की समस्याओं को सुलझाने का प्रयत्न कर रहा है, वह निस्संदेह प्रशंसनीय है। पर यह सब इतना सरल भी नहीं था।
यूपी-100 ने बहुत ही कम समय में गंभीर-से-गंभीर और छोटे-से-छोटे अपराध को सुलझाने में बेहद समझदारी और परिपक्वता का परिचय दिया है। ये सारी उपलब्धियाँ व समाचार महज समाचार-पत्र के एक कोने में आकर सिमट गई थीं। ज्यादातर लोगों को तो अभी तक यह भी जानकारी नहीं है कि पुलिस उनके जीवन में कितनी बड़ी भूमिका निभा रही है। अब यूपी-100 के कार्य कहानियों के रूप में आपके समक्ष हैं। मैंने घटनाओं के साथ कितना न्याय किया है, यह तो आप सभी की बहुमूल्य प्रतिक्रियाएँ ही बता पाएँगी।

__________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________

अनुक्रम

प्राक्कथन—5

लेखकीय—9

1. डकैतों को दबोचा—17

2. ए.टी.एम. से चोरी की कोशिश—20

3. मनचलों को सिखाया सबक—23

4. मोगली गर्ल—26

5. समाधि लेने से रोका—29

6. रेल दुर्घटना—32

7. अवैध शराब—35

8. पत्रकार की जान बचाई—38

9. जापानी पर्यटक—41

10. अपहरण की कोशिश—45

11. रुपयों की चोरी—48

12. दहेज की आग—51

13. अनमेल विवाह—55

14. बूढ़ी माँ की बेबसी—58

15. नदी में गिरी गाड़ी—62

16. प्रतिबंधित पशु को काटा—65

17. हाईटेक पी.आर.वी. 68

18. कफन के रुपए—71

19. हॉरर किलिंग को रोका—75

20. दिव्यांग महिला के साथ छेड़छाड़—79

21. पुलिस का भय—82

22. डिप्रेशन की बीमारी—86

23. मोटरसाइकिल की चोरी—89

24. मजदूर की मेहनत—92

25. ऑपरेशन कृष्णा इंडिया—96

26. डूबती महिला की जान बचाई—100

27. विवाह का निर्णय—103

28. लापता किशोरी को ढूँढ़ा—107

29. आग से बचाया—111

30. जुए का खेल—114

31. लैपटॉप की बरामदगी—117

32. अजगर का डर—120

33. लाठी से फूटा सिर—123

34. बच्‍ची को घर पहुँचाया—127

35. आत्महत्या करने से बचाया—131

36. साक्षात्कार की तैयारी—134

37. रेत में फँसी गाड़ी—137

38. संवाद अधिकारी —140

39. अवसाद की पीड़ा—144

40. ट्रैफिक जाम में झगड़ा—148

41. भाषा की समस्या—151

42. आधुनिक मोबाइल एप्प—154

43. पी.आर.वी. ने लाइट का किया काम—157

44. खदान में डूबने से बचाया—160

45. भोला को ढूँढ़ निकाला—163

46. पाठशाला का ताला—167

47. मधुमक्खियों से बचाव—170

48. आत्महत्या से रोका—173

49. अच्छे अंक का दबाव—177

50. पूर्णिमा की उम्मीदें—181

51. हार्ट अटैक से उबारा—185

52. कलयुगी बेटा —188

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Jeevan Dhara”

Your email address will not be published. Required fields are marked *