Sale!

Jalti Hui Nadi | जलती हुई नदी

325.00 276.25

ISBN : 9788170282983
Edition: 2016
Pages: 206
Language: Hindi
Format: Hardback
Author : Kamleshwar

Compare
Category:

Description

आत्मकथा-लेखन में कमलेश्वर का यह नया प्रयोग एक तरह से एक नयी विधा की-सृष्टि करता है। उन्होंने न खुद अपने को बख़्शा है, न दूसरों को, और सचाई, जिसे वे सापेक्ष ही मानते हैं – क्योंकि दूसरों की सचाई कुछ और भी हो सकती है – उनकी क़लम से निर्बाध बहती रहती है।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Jalti Hui Nadi | जलती हुई नदी”

Your email address will not be published. Required fields are marked *