Sale!

गोमा हंसती है / Goma Hansti Hai

250.00 212.50

ISBN : 978-81-7016-398-5
Edition: 2016
Pages: 198
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Maitreyi Pushpa

Compare
Category:

Description

गोमा हंसती है
शहरी मध्यवर्ग के सीमित कथा-संसार में मैत्रीय पुष्पा का कहानियाँ उन लोगों को लेकर आई हैं, जिन्हें आज समाजशास्त्री ‘हाशिए के लोग’ कहते है । वे अपनी ‘कहन’ और ‘कथन’ में ही अलग नहीं हैं, भाषा और मुहावरे में भी ‘मिट्टी की गंध’ समेटे हैं ।
‘गोमा हंसती है’ की कहानियों के केंद्र में है नारी, और वह अपन सुख-दु:खों, यंत्रणाओं और यातनाओं में तपकर अपनी स्वतंत्र पहचान माँग रही है । उसका अपने प्रति ईमानदार होना ही ‘बोल्ड’ होना है, हालाँकि यह बिलकुल नहीँ जानती कि वह क्या है, जिसे ‘बोल्ड होने’ का नाम दिया जाता है । नारी-चेतना की यह पहचान या उसके सिर उठाकर खड़े होने में ही समाज की पुरुषवादी मर्यादाएं या महादेवी वर्मा के शब्दों में ‘श्रृंखला की कडियाँ’ चटकने-टूटने लगती है । वे औरत को लेकर बनाई गई शील और नैतिकता पर पुनर्विचार की मजबूरी पैदा करती है । ‘गोमा हंसती है’ की कहानियों की नारी अनैतिक नहीं, नई नैतिकता को रेखांकित करती है ।
इन साधारण और छोटी-छोटी कथाओं को ‘साइलैंट रिवोल्ट’ (निश्शब्द विद्रोह) की कहानियाँ भी कहा जा सकता है क्योंकि नारीवादी घोषणाएँ इनसे कहीं नहीं है । ये वे अनुभव-खंड है जो स्वयं ‘विचार’ नहीं हैं, मगर उन्हीं के आधार पर ‘विचार’ का स्वरूप बनता है ।
कलात्मकता की शर्तों के साथ बेहद पठनीय ये कहानियाँ निश्चय ही पाठको को फिर-फिर अपने साथ बॉंधेंगी, क्योंकि  इनमें हमारी जानी-पहचानी दुनिया का वह ‘अलग’ और ‘अविस्मरणीय’ भी है जो हमारी दृष्टि को माँजता है।
इन कहानियों की भावनात्मक नाटकीयता निस्संदेह हमें चकित भी करेगी और मुग्ध भी। ये सरल बनावट की जटिल कहानियां है ।
‘गोमा हँसती है’ सिर्फ एक कहानी नही, कथा-जगत्की एक ‘घटना’ भी है ।
-सजेन्द्र यादव

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “गोमा हंसती है / Goma Hansti Hai”

Your email address will not be published. Required fields are marked *