Sale!

दस प्रतिनिधि कहानियां : रामधारी सिंह दिवाकर / Dus Pratinidhi Kahaniyan : Ramdhari Singh Diwakar

250.00 212.50

ISBN : 978-81-7016-617-7
Edition: 2016
Pages: 140
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Ramdhari Singh Diwakar

Compare
Category:

Description

दस प्रतिनिधि कहानियां : रामधारी सिंह दिवाकर
रामधारी सिंह दिवाकर की इन कहानियों में गांव का जटिल यथार्थ आद्यन्त उपलब्ध है ।  गाँवों की सम्यक तस्वीर का आधुनिक रूप जो विकास और पिल्लेपन के संयुक्त द्वंद्वों से उत्यन्न अपना है, वही यहाँ चित्रित हुआ है । आर्थिक आधार के मूल में रक्त-संबंधों के बीच गहरे दबावों का वैसा प्रभावपूर्ण चित्रण भा दिवाकर के समकालीन अन्य कहानीकारों में प्राय: नहीं मिलता है । कहा जा सकता है कि ये कहानियां उन हजारों-हज़ार गाँवों की पदचाप और ध्वनियों की खरी रचनाएँ हैं, जो किसी पाठयक्रम के चयन की प्रत्याशी नहीं, बल्कि  आधुनिक ग्राम और ग्रामवासी की आत्मा का अनुपम अंकन  हैं ।
हिंदी कहानी के वृत्त और प्रयोजन की परिधि को निश्चित ही विस्तार देती इन कहानियों में जहाँ एक और मनुष्य की जिजीविषा का गाढा रंग है तो वहीं दूसरी ओर हमारे तथाकथित ‘विकास’ पर विशाल प्रश्नचिह्न भी हैं। सामाजिक परिवर्तनों के विकास पर इस कहानीकार की समर्थ पकड़ है तथा कहानियों की कारीगरी इतनी सहज-सरल और मर्मस्पर्शी कि लेखक की कहन चुपचाप पाठक के सुपुर्द हो जाती है । यही चिरपरिचित अंदाज दिवाकर के कहानीकार ने बखूबी अर्जित किया है, जो उन्हें अपने समकालीनों में विशिष्ट बनाता है ।
रामधारी सिंह दिवाकर द्वारा स्वयं चुनी गई ‘दस प्रतिनिधि कहानियाँ हैं—’सरहद के पार’,’खोई हुई ज़मीन’, ‘सदियों का पड़ाव’, ‘शोक-पर्व’, ‘माटी-पानो’, ‘मखान पोखर’, ‘सूखी नदी का पल’. ‘गाँठ’, ‘इस पार के लोग’ तथा ‘काले दिन’ ।
किताबघर प्रकाशन द्वारा प्रकाशित की जा रही “दस प्रतिनिधि कहानियाँ’ सीरीज़ में सम्मिलित इस प्रतिनिधि कथा-संग्रह को प्रस्तुत करते हुए हम आशान्वित हैं कि इन कहानियों को लंबे समय तक पाठकों के मन में कभी भी तलाशा जा सकेगा ।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “दस प्रतिनिधि कहानियां : रामधारी सिंह दिवाकर / Dus Pratinidhi Kahaniyan : Ramdhari Singh Diwakar”

Your email address will not be published. Required fields are marked *