Sale!

चिन्हार / Chinhaar

350.00 297.50

ISBN : 978-81-88118-68-7
Edition: 2019
Pages: 144
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Maitreyi Pushpa

Compare
Category:

Description

चिन्हार
“माँ, लगाओ अँगूठा !” मँझले ने अँगूठे पर स्याही लगाने की तैयारी कर ली, लेकिन उन्होंने चीकू से पैन माँगकर टेढ़े-मेढे अक्षरों में बडे मनोयोग से लिख दिया-‘कैलाशो  देवी”।  उन्हें क्या पता था कि यह लिखावट उनके नाम चढ़ी दस बीघे जमीन को भी छीन ले जाएगी और आज से उनका बुढापा रेहन चढ जाएगा ।
रेहन में चढा बुढापा, बिकी हुई आस्थाएँ, कुचले हुए सपने, धुंधलाता भविष्य-इन्हीं दुख-दर्द की घटनाओं के ताने-बाने ने चुनी ये कहानियाँ इक्कीसवीं शताब्दी की देहरी पर दस्तक देते भारत के ग्रामीण समाज का आईना हैं । एक ओर आर्थिक प्रगति, दूसरी ओर शोषण का यह सनातन स्वरुप! चाहे ‘अपना-अपना आकाश’ की अम्मा हो, ‘चिन्हार’ की सरजू या ‘आक्षेप’ की रमिया, या ‘भंवर’ की विरमा-सबकी अपनी-अपनी व्यथाएँ हैं, अपनी-अपनी सीमाएँ ।
इन्हीं सीमाओं से बँधी, इन मरणोन्मुखी मानव-प्रतिमाओं का स्पंदन सहज ही सर्वत्र अनुभव होता है–प्राय: हर कहानी में ।
लेखिका ने अपने जिए हुए परिवेश को जिस सहजता से प्रस्तुत किया है, जिस स्वाभाविकता से, उससे अनेक रचनाएँ, मात्र रचनाएं न बनकर, अपने समय का, अपने समाज का एक दस्तावेज बन गई हैं।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “चिन्हार / Chinhaar”

Your email address will not be published. Required fields are marked *