Sale!

Akkhar Kund

125.00 106.25

ISBN: 978-81-7016-517-0
Edition: 2002
Pages: 126
Language: Hindi
Format: Hardback


Author : Padma Sachdev

Compare
Category:

Description

अक्खर कुंड
यूँ तो पद्मा सचदेव डोगरी की कवयित्री हैं, पर अनुवाद के माध्यम से जब वह प्रकट होती है, तो उनकी कविता में पूरे हिंदुस्तान की महक आती है । इससे सहज ही स्पष्ट हो जाता है कि वह संपूर्ण भारतीय समाज और संस्कृति को शब्द देने वाली कुशल चितेरी है ।
पद्मा जी की कविता प्रकृति की कविता है और मनुष्य की संवेदना और करुणा की भी…। इनकी कविता में मिथकों की बानगी अदभुत और अलग पहचान से समृद्ध है । यहाँ वह सूक्ष्म में जाती हैं और उसे रूहानी भावों से जोड़ते हुए जो चित्रांकन करती है, वह जीवंत तो है ही, बल्कि अपनी जड़ों से जोडने का वास्तविक अहसास कराती हैं । इसलिए इनमें आत्मिक आनंद की अनुभूति भी है ।
पद्मा जी की कविताओं में कश्मीर का बेमिसाल सौंदर्य  तो है ही, वहाँ की जातीय संस्कृति का सबल रेखांकन  भी है, यानी इनमें कश्मीरियत समूचे आकार में यहीं होती है । इन्हें शब्द-चित्रों को बनाते हुए उन्हें घाटी में बारूद की गंध भी आती है । इससे उनका संवेदनशील मन विचलित होता है, लेकिन वह इसे यूँ ही नहीं छोड़ देतीं, पीडितों-वंचितों को आशा और विश्वास भेंटती है । उनमें ‘एक दिन लौटने का अहसास’ जगाती हैं ।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Akkhar Kund”

Your email address will not be published. Required fields are marked *