Sale!

मैं राम बोल रहा हूँ / Main Ram Bol Raha Hoon

200.00 170.00

ISBN : 9789383111374
Edition: 2018
Pages: 95
Language: Hindi
Format: Hardback
Author : Pramod Kumar Agrawal

Compare
Category:

Description

राम का जीवन भारतीयों के लिए एक आदर्श जीवन है। जन्म से लेकर अंत तक राम का चरित्र एक दीप-स्तंभ है। ऐसे सार्वकालिक राष्‍ट्रीय नायक का कथानक किसी भी कृति को गौरवान्वित करता है।
‘रामचरितमानस’ के धीरोदात्त नायक राम कथनी से अधिक करनी में विश्‍वास रखते थे। अतः उनके जो भी कथन उपलब्ध हैं, वे भारतीय संस्कृति की महत्त्वपूर्ण धरोहर हैं।
राम के प्रस्तुत उद्‍घोष तुलसीकृत रामचरितमानस एवं लेखक की समांतर कृति ‘रामचरितमानस: नाट्य रूप’ से उद्‍धृत किए गए हैं।
विश्‍वास है, सुधी पाठक प्रस्तुत कृति से प्रेरणा ग्रहण करके अपने जीवन को सफल बनाएँगे और भारतीय तथा विश्‍व-समाज को समुन्नत करने में योगदान देंगे।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “मैं राम बोल रहा हूँ / Main Ram Bol Raha Hoon”

Your email address will not be published. Required fields are marked *