Sale!

गूँज / Goonj

250.00 212.50

ISBN : 978-81-85827-94-0
Edition: 2016
Pages: 212
Language: Hindi
Format: Hardback
Author : Mahaveer Prasad Akela

Compare
Category:

Description

‘ अपनी बिरादरी में क्या अच्छे लड़कों की कमी है?”
” कमी तो नहीं है, लेकिन मेरी बेटी उस लड़के से प्यार करती है । ”
” क्या कहा आपने? प्यार, यानी मुहब्बत! आपको क्या मालूम नहीं कि हमारे मजहब में शादी के पहले लड़की-लड़के को एक- दूसरे को देखना तक गुनाह है- और आप कह रहे हैं कि आपकी बेटी मुहब्बत करती है । फिर तो वह उस हिंदू लड़के से बराबर मिलती-जुलती होगी । यह तो कुफ्र है । जानते हैं, हमारे मजहब में उसकी सजा क्या है? संगसार, यानी पत्थरों से मार-मारकर खत्म कर देना । ”
” कौन मारेगा मेरी बेटी को?” सलाहुद‍्दीन खाँ ने तैश में आकर कहा, ” कौन है वह पहलवान, जरा मैं भी देखूँ! मौलाना, जो मेरी बेटी की तरफ उलटी निगाहों से देखेगा, मैं उसकी आँखें निकाल लूँगा!”
-इसी पुस्तक से
आज इतनी प्रगति के पश्‍चात् भी हमारे समाज से रूढ़िवादिता, आडंबर और अंध धार्मिकता गई नहीं है । हमारा समाज आज भी तमाम सड़ी-गली मान्यताओं को ढो रहा है, जो बिला वजह की हैं । प्रस्तुत उपन्यास में एक ऐसी प्रगतिशील लड़की का चरित्र चित्रण है, जो आडंबरपूर्ण मान्यताओं और रूढ़िवादिता के विरुद्ध खुलकर सामने आती है और अनेक नवयुवकों व युवतियों को प्रेरणा देती है । उपन्यास में अंडरवर्ल्ड की वास्तविकताओं और मुंबई तथा दुबई आदि में बैठे माफिया सरगनाओं की देश-विरोधी गतिविधियों आदि का सप्रमाण वर्णन पुस्तक के कद को बढ़ा देता है ।
एक रोचक व रोमांचक उपन्यास, जिसे एक बार पढ़ना प्रारंभ करने पर फिर समाप्‍त‌ि ही होती है ।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “गूँज / Goonj”

Your email address will not be published. Required fields are marked *