Sale!

कवि ने कहा: विश्वनाथ प्रसाद तिवारी / Kavi Ne Kaha : Vishwanath Prasad Tiwari (PB)

90.00 81.00

ISBN : 978-93-81467-25-1
Edition: 2012
Pages: 144
Language: Hindi
Format: Paperback


Author : Vishwanath Prasad Tiwari

Compare
Category:

Description

कवि ने कहा : विश्वनाथ प्रसाद तिवारी
मेरी कविताओं में ऐसे शब्द, बिंब या प्रतीक अधिक हैं जो भोगते हुए या जूझते हुए मनुष्य से संबंधित है । मैं गरीब देहाती दुनिया से जाया हुं और मेरे शुरू के बीस वर्ष उस अनाथ साधनहीन मनुष्य के बीच गुजरे जिसे बार-बार अपमानित होते, यातनाएं सहते देखा है । मेरी कविताओं में ‘हत्या’ और उससे मिलती-जुलती शब्दावली में जो आतंक है, वह मेरे बालमन पर पडे प्रभावों की ही प्रतिक्रिया है । मेरी कविताओं में ‘अंधकार’ और ‘रात’ के बिंब भी अधिक हैं जो एक अनार मेरे अकेलेपन की अतृप्ति को व्यक्त करते है तो दूसरी खार उस अंधकारमय दबाव को जिसे आज का साधनहीन मनुष्य भोग रहा है । मेरी कविताओं में पहाडी परिवेश अधिक मिलेगा । पहाड़ के प्रति मेरा गहरा आकर्षण है और मृत्यु-भय से आतंकित होते हुए भी मैंने पहाडी यात्राएं बहुत की हैं । हिमालय का परिवेश मेरी प्रेम कविताओं में कहीँ-कहीं प्रेमिका के साथ एकाकार हो गया है । कुछ शब्दों के सदंर्भ से प्रयोक्ता और ग्रहीता के अर्थों में अंतर स्वाभाविक है । अपनी कविताओं के प्रसंग में कहूं तो उनमें ‘इतिहास’, ‘धारा’, ‘अंधकार’, ‘घाटी’, ‘जंगल’, ‘पहाड़’ आदि अनेक शब्द अपना विशिष्ट अर्थ रखते है ।
‘बेहतर दुनिया के लिए’ और ‘आखर अनंत’ नामक संग्रहों की बहुत-सी समीक्षाएं प्रकाशित हो चुकी है । इन संग्रहों के बारे में अपनी ओर से सिर्फ इतना कहना चाहता हूं कि इनमें मेरी रचनात्मक भाषा  परित्कृत हुई है और कविताओं को एक व्यापक परिप्रेक्ष्य मिला है । आत्मीय  का भी और लोक जा भी ।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “कवि ने कहा: विश्वनाथ प्रसाद तिवारी / Kavi Ne Kaha : Vishwanath Prasad Tiwari (PB)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *